आपके किचन में छिपा है एंटीबायोटिक दवाईयों का राज, जानिए नाम और काम

वर्तमान की बदलती जीवनशैली और लगातार बढते प्रदूषण के कारण कई तरह की नई-नई बीमारियां फैलने लगी है। बदलते मौसम में इंफेक्शन का खतरा हमेशा से बना रहता है। इन बीमारियों के उपचार के रूप में डॉक्टर्स प्राय: एंटीबायोटिक दवाईयों खाने की सलाह देते है। लेकिन आप इन दवाइयों के सेवन के बजाय अपने घर की रसोई में मौजूद कुछ चीजों का उपयोग भी ले सकते है। ये चीजें भी एंटीबायोटिक दवाइयों के समान ही असर करती है।

प्याज में मौजूद क्वेरसेटिन नामक शक्तिशाली एंजाइम वायरल फ्लू, सर्दी जुकाम इत्यादि बीमारियों से हमें बचाता है। इसलिए हमेशा सब्जियों में और सलाद के रूप में प्याज को अवश्य शामिल करना चाहिए। इसका असर भी एंटीबायोटिक दवाओं के समान ही है।

लहसुन का नियमित सेवन  बैक्टीरिया से फैलने वाले रोगों जैसे कि फ्लू, जोड़ों के दर्द और यीस्ट इन्फेक्शन में बहुत मदद करता है। इसलिए सब्जियां या दाल फ्राई बनाते समय लहसुन की कुछ कलियां ज़रूर डालें।

सेब के सिरके में एंटी-ऑक्सीडेंट की मात्रा बहुत ज्यादा ज्यादा होती है। अगर पेट में इन्फेक्शन होने या किसी तरह के फंगल इन्फेक्शन से पीड़ित होने पर  इसका सेवन करना चाहिए। इसके सेवन से कई तरह के इन्फेक्शन बहुत ही जल्दी ठीक हो जाते हैं।

हल्दी में भी कई तरह के औषधीय गुण होते हैं। हल्दी में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होने के कारण यह आपको हर तरह के माइक्रोबियल इन्फेक्शन से बचाने में बहुत असरदार है। अगर आप सर्दी-जुकाम से पीड़ित हैं या फिर आपके जोड़ों में दर्द हो रहा है तो डाइट में हल्दी का सेवन बढ़ा दें।