छिन गई CISF जवानों की सोशल मीडिया आजादी, विभाग को देनी होगी जानकारी

देश में करीब 1.62 लाख केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल के जवान है। इन सभी के लिए सीआईएसएफ ने सोशल मीडिया के उपयोग पर कुछ दिशा-निर्देश जारी किये है। नए नियमों के तहत अब सभी सीआईएसएफ कर्मियों को अपने-अपने सोशल मीडिया अकाउंट की जानकारी देनी होगी। यह जानकारी सीआईएसएफ की तरफ से आधिकारिक आदेश में दी गई है। यह आदेश और दिशा-निर्देश 31 जुलाई को जारी किये गए है जिनका उल्लंघन महंगा पडेगा।

दिल्ली स्थिति सीआईएसएफ मुख्यालय एक आदेश में कहा ‘ट्विटर, फेसबुक और इंस्टाग्राम जैसे सभी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म से राष्ट्रीय सुरक्षा और बल के अनुशासन को खतरा है। ऐसे में इन सभी खतरे को मद्देनजर रखते हुए दो पृष्ठों के दिशानिर्देश जारी किए हैं।

गौरतलब है कि देश में सीआईएसएफ 63 हवाईअड्डों, हवाईक्षेत्र से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण परिसंपत्तियों के अलावा विभिन्न सरकारी मंत्रालयों एवं भवनों आदि की सुरक्षा करता है। बल को काफी समय से ऐसी शिकायतें और उदारहण मिल रहे थे, जिसमें सीआईएसएफ कर्मी सोशल मीडिया का दुरूपयोग कर रहे थे। दरअसल सीआईएसएफ को पता चला कि सीआईएसएफ कर्मी राष्ट्र/संगठन के बारे में संवेदनशील सूचना साझा कर रहे है और सरकार का विरोध कर रहे है।

नए दिशा-निर्देशों के तहत सीआईएसएफ कर्मियों को सभी सोशल मीडिया मंचों पर खुद के द्वारा इस्तेमाल की जा रही अपनी यूजर आईडी की जानकारी विभाग को देनी होगी। यूजर आईडी में बदलाव और नया अकाउंट बनाने की जानकारी भी विभाग को देना जरुरी होगा। इसके अलावा कर्मी अनाम या छद्म नाम से यूजर आईडी नहं बना सकेंगे। साथ ही वे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सरकारी नीतियों का विरोध और सर्कार की आलोचना भी नहीं कर सकेंगे।

यह भी पढ़े: पर्यटकों को आकर्षित करेगी राम जन्मभूमि अयोध्या, केंद्र सरकार कर रही बड़े प्रयास
यह भी पढ़े: लोकल हेलमेट पहनना, बनाना और बेचना होगा अपराध, जुर्माना और जेल का

Loading...