पुरुषों की दुर्बलता होगी दूर इन फलों और सब्जियों के सेवन से !

आज के समय में गलत दिनचर्या, असंतुलित खान-पान, शरीर में पोषक तत्वों की कमी के कारण या अन्य गलत आदतों की वजह से पुरुषों मे कमजोरी की समस्या खड़ी हो जाती है। इस दुर्बलता या कमजोरी की वजह से उनका वैवाहिक जीवन खुशहाल नहीं रहता। ऐसे पुरुष मानसिक रूप से भी परेशान रहने लगते हैं। तरह तरह की दवाओं का उपयोग करने के बाद उन्हे कुछ फाइदा तो होता है लेकिन उन दवाओं के कई अन्य दुष्प्रभाव शरीर पर पड़ते हैं। लेकिन पुरुषों की इस कमजोरी और परेशानी को दूर करने के लिए आयुर्वेद में कई उपाय बताए गए हैं।

आइये जानते हैं उनमें से कुछ उपायों को :-

लहसुन है फायदेमंद

आयुर्वेद मे लहसुन को बहुत ही गुणकारी बताया गया है। लहसुन में एलियम नामक एंटीबायोटिक होता है जो शरीर को बहुत से रोगों से बचाता है। नियमित लहसुन खाने से ब्लडप्रेशर कम या ज्यादा होने की बीमारी नहीं होती। पेट मे गैस और एसिडिटी की शिकायत में इसका प्रयोग बहुत ही लाभदायक होता है। पुरुषों मे कमजोरी की समस्या में पुरुषों को रोजाना रात को लहसुन की दो कलियां रात को सोने से पहले निगल कर थोड़ा पानी पी लेना चाहिए। इसे खाने से इरेक्टिकल डाईफंकशन मे भी लाभ होता है।

प्याज भी नहीं है किसी से कम

प्याज मे भी औषधिय गुण पाये जाते हैं। यह अरुचि और अपच जैसी स्थितियों में काफी फायदेमंद होता है। पुरुषों की शीघ्रपतन की समस्या के लिए ढाई ग्राम शहद एवं इतना ही प्याज का रस मिलाकर चाटना चाहिए। इस प्रयोग को शीत ऋतु में दो से तीन बार किया जा सकता है लेकिन गर्मियों में इसको सूर्योदय से पूर्व केवल एक बार ही लिया जाए तो बेहतर है। इसके अलावा प्याज रक्त प्रवाह को संतुलित करता है। यह भी इरेक्टिकल डाईफंकशन मे लाभदायक है।

अनार भी

अनार खाने से शरीर में शक्ति और विशेष प्रकार की ऊर्जा उत्पन्न होती है। अनार खाने से शरीर मे नए रक्त का संचार होता है। इसके पेड़ों की पत्तियों व छाल का उपयोग भी औषधि के रूप में किया जाता है। अनार हृदय रोगों, तनाव और यौन जीवन के लिए बेहतर माना जाता है। पुरुषों की कमजोरी की समस्या मे अनार के छिलको को सूखा लें और पीस लें। इसके बाद प्रतिदिन सुबह और शाम एक चम्मच इस चूर्ण को खाएं। स्वप्नदोष और पुरुषों मे गर्मी की शिकायत को भी दूर करता है। सुबह खाली पेट अनार का सेवन या सुबह इसके जूस का सेवन भी लाभकारी है।

आँवला भी है लाभकारी

आँवला बेहद गुणकारी होता है। आंवला पाचन तंत्र को तो सुधारता है ही साथ मे यह शरीर को और भी फायदे पहुंचता हैं जैसे ये स्मरण शक्ति दुरुस्त करता है। नियमित रूप से आंवले का सेवन करने से बुढ़ापा भी दूर रहता है। पुरुषों मे कमजोरी की समस्या में आंवला बहुत फायदेमंद होता है। अत: प्रतिदिन रात्रि में गिलास में थोड़ा सा सुखा आंवले का चूर्ण लें और उसमें पानी भर दें। सुबह उठने के बाद इस पानी में हल्दी मिलाएं और छानकर पीएं। इससे पुरुषों की कमजोरी दूर होती है। इसके मुरब्बे का सुबह खाली पेट उपयोग भी फायदेमंद होता है इसके ऊपर से दूध का सेवन करना चाहिए।

उड़द की दाल

उड़द शक्तिवर्द्धक होती है इसमे विभिन्न रोगों के उपचार के गुण है। उड़द का प्रयोग किसी भी तरह से करने पर शक्ति बढ़ती है। भीगी हुई उड़द दाल को पीसकर एक चम्मच देशी घी व आधा चम्मच शहद में मिलाकर चाटने के बाद मिश्री मिला हुआ दूध पीना लाभदायक है। इसका प्रयोग लगातार करते रहने से पुरुष घोड़े की तरह ताकतवर हो जाता है। उड़द की दाल के लड्डू बनाकर सुबह शाम दूध के साथ सेवन करने से नपुसंकता दूर होती है।

अंकुरित अनाज

अंकुरित गेहूं, अंकुरित चना, अंकुरित दाल(मूंग ), अंकुरित मूंगफली इनमें से किसी भी एक पदार्थ का भोजन के साथ या भोजन के बगैर अच्छी तरह से चबा-चबाकर प्रयोग करने से भी पुरुषों की कमजोरी दूर हो जाती है।
वैसे कमजोरी को दूर रखने के लिए संतुलित आहार करना चाहिए। शराब, धूम्रपान से दूर रहना चाहिए। दूध, हरी पत्तेदार सब्जियाँ, मौसमी फलों का सेवन करना चाहिए।

यह भी पढ़ें-

इन उपायों से खून की कमी को दूर कर सकते है !