इन 5 संकेतों से जाने की आप डिप्रेशन में है या नहीं

दुनिया का हर इंसान किसी न किसी परेशानी से गुज़र रहा है, फर्क सर्फ इतना है की कुछ किसी भी हालत में इन दिक्कतों का सामना कर लेते है, मगर के पास इतनी छमता नहीं होती की वो दिक्कतों से जूझ पाए। जिसका असर ये होता है की वे डिप्रेशन का जाते है। डिप्रेशन एक ऐसी बीमारी है जिसमे इंसान खुद को ही भूल जाता ह, उसे कुछ भी करने का मन नहीं होता, उसे कुछ समझ नहीं आता की वह आगे करे तो क्या? जो इंसान डिप्रेशन में रहते है, उन्हें आप बाहर से देखकर ये बिलकुल नहीं कह सकते की वे डिप्रेशन में है। बाहर से तो वह बिलकुल सामान्य से दीखते है मगर अंदर उनपर क्या बीतती है, ये सिर्फ वही जानते है। या हो सकता है की आप भी डिप्रेशन में हो मगर आप अपनी हालत से बेखबर हो। इसीलिए हम आपको बताएंगे की डिप्रेशन के संकेत कौन कौन से होते है। भारत में कई ऐसे लोग हैं जो डिप्रेशन की प्रॉब्लम फेस करते हैं। WHO की रिसर्च के अनुसार भारत में 5 करोड़ से भी ज्यादा लोग डिप्रेशन के शिकार हैं। पूरी दुनिया में साल 2020 तक डिप्रेशन के सबसे बड़ी बीमारी के रूप में सामने आने की आशंका है।

डिप्रेशन के ये है 5 संकेत

1 रात भर नींद न आना: आपने कईओं ये बोलते सुना होगा की उनको रात रात भर नींद नहीं आती, या अचानक ही रात को नींद खुल जाती है।
ऐसे लोग डिप्रेशन के शिकार होते है, हो सकता है ये आपके साथ हो रहा हो या आपके आस पड़ोस या आपके दोस्तों के साथ। डिप्रेशन का इलाज बहुत ज़रूरी है, नहीं तो इससे लोगो का भविष्य अंधकार में पड़ सकता है।

2 ज्यादातर उदास रहना: अक्सर आपने कुछ लोगो अलग अलग और उदास बैठे देखा होगा, उन्हें न किसी बात करनी होती है न ही कही जाना होता है।
ये बस अपने में ही अकेले रहना पसंद करते है। इसका साफ़ मतलब होता है की वे डिप्रेशन के शिकार है। आप चाहे तो इनकी मदद कर सकते है उनके साथ बात करके उनका दुःख बांट कर।

3 भूख न लगना/ अधिक भूख लगना: जी हां, डिप्रेशन के शिकार लोगो को अक्सर भूख नहीं लगती साथ कुछ अलग मरीज़ों को हद्द से ज्यादा भूख लगती है। ये दोनों संकेत डिप्रेशन के ही है। इसीलिए ज़रूरी है की इनसे बात की जाये, उन्हें समझा जाये।

4 उल्टी-सीधी बाते सोचना: जो लोग डिप्रेशन में रहते है वे अक्सर नेगेटिव बाते सोचते रहते है, जैसे कहीं कुछ गलत न हो जाये, कही कुछ उल्टा-सीधा न हो जाये। इनके साथ हमेसा प्यार से पेश आने की ज़रूरत होती है।
इन्हे मनोचिकित्सक के पास ले जाना आवश्यक होता है।

5 अक्सर चीज़ों को भूलना: डिप्रेशन के शिकार लोग अक्सर चीज़ों को धीरे धीरे भूलने लगते है, जिससे काफी नुक्सान भी झेलना पद सकता है उनको। ऐसे में ज़रूरी है की उनसे प्यार से पेश आया जाये और किसी तरह की कोई तकलीफ न दे सके।

अगर आपको लगता है, आप में ये लक्षण उजागर हो रहे है तो तुरंत मनोचिकित्षक से मिले और अपना इलाज करवाए।
या कोई आसपास ऐसा कोई व्यक्ति या आपके अपने हो तो उनका भी ख्याल रखे। डिप्रेशन से बाहर निकलना बेहद आवश्यक है।