शास्त्रों में बताये गए हैं सुखी जीवन के ये चार नियम

हमारी शास्त्रों में बहुत कुछ लिखा है और इसमें बताया गया है की आपका जीवन सुखी है अगर आपके पास ये चीजे हैं तो-

निरोगी काया

कहा गया है की पहला सुख निरोगी काया और ये पूरी तरह से सही है। जब आप स्वस्थ हिंगे तो आप बाकी चीजो को देख और महसूस कर सकेगे।

घर में हो माया

कहा गया है की दूजा सुख घर में माया यानी की आपके पास पैसा हो।   इस कलियुग में जब पैसे से स्टेटस बनता है तो आपके पास वो होना चहिये।

सुलक्षणा नारी

कहा गया है की तीजा सुख सुलक्षणा नारी यानी की आपकी पत्नी ऐसी ही जिसके अंदर अच्छे लक्षण हो और वो संस्कारी हो।   इससे आपका घर स्वर्ग बनता है।

पुत्र आज्ञाकारी

शास्त्र में बताया गया है की चौथा सुख पुत्र आज्ञाकारी यानी की आपका पुत्र आपकी बातों को माने ऐसा होना चहिये।   अगर पुत्र सही नहीं तो आप कितना भी धन संचय कर लें तो आप सुखी नहीं रह सकेगे।

सेहत के लिए इमली बेहद गुणकारी है, कीजिए यूज