चिकनगुनिया से बचने के लिए जरूर अपनाये ये उपाय

वर्तमान समय में लोग डेंगू के कहर के बाद अब चिकनगुनिया के कहर से बहुत परेशान हैंं, बुखार आने के अलावा इस गंभीर बाीमारी में मरीज को सबसे अधिक तकलीफ जोड़ों के दर्द से होती है। यहाँ हम आपको बता दे कि अभी तक तकरीबन 5 हजार लोग इस गंभीर बीमारी की चपेट में आ चुके हैं।

चिकनगुनिया एक ऐसा जबरदस्त वायरल बुखार है, जो इन्सान को अन्दर से विल्कुल पूरी तरह तोड़ कर रख देता है, लेकिन ये कतई जानलेवा बुखार नहीं है। यहां हम आपको बता दे कि यह बीमारी मादा एडीज मच्छर के काटने से होती है। इसके साथ ही चिकनगुनिया के लक्षण तकरीबन तीन से सात दिनों के अंदर बुखार और जोड़ो के दर्द के रुप में हमें दिखाई देने लगते हैं। इसके अलावा सिर दर्द, मांसपेशियों में दर्द, जोड़ों में सूजन और लाल चकत्ते जैसे गंभीर लक्षण भी नजर आते हैं।

इसी के साथ ऐसा भी देखने को मिला है कि इस गंभीर बीमारी से पीड़ित रोगी एक हफ्ते के अन्दर पूरी तरह ठीक महसूस करने लगते हैं। लेकिन कुछ महिनों तक रोगी को जोड़ों का गंभीर दर्द रह सकता है। इसलिए चिकनगुनिया और डेंगू से बचने के लिए मच्छरों के काटने से बचना बहुत आवश्यक है।

यहाँ आपके लिए यह जानना भी आवश्यक है की जैसे डेंगू के मच्छर के काटने का समय दिन में होता है ठीक वैसे ही इस बीमारी के काटने का समय सुबह जल्दी और देर शाम को होता है, लेकिन अगर आप रात को घर में लाइट जलाकर सोते है , तब भी यह मच्छर आपको अवश्य ही काट सकता है, इसलिए मच्छर दानी या फिर कॉयल का प्रयोग अवश्य करें।

इसी के साथ चिकनगुनिया वायरस को रोकने के लिए अभी तक कोई भी वैक्सीन उपलब्ध नहीं है, इसलिए अभी केवल दवाईयां देकर इसके लक्षणों को कुछ हद तक कम किया जाता है।

Loading...