ये हो सकता है ब्रेस्ट कैंसर का इलाज

ब्रेस्ट कैंसर को लेकर पहले के मुकाबले काफी जागरुकता आई है लेकिन अभी भी इस ओर काफी ध्यान देने की जरुरत है। ब्रेस्ट कैंसर के प्रति लापरवाही खतरनाक साबित हो सकती है। वैसे तो समय रहते अगर इसके लक्षण पकड़ में आ जाएं तो इलाज संभव है लेकिन आप चाहें तो अपनी डाइट में कुछ जरूरी हेर-फेर करके इसके खतरे को कम कर सकती हैं।

  1. टमाटर

टमाटर में लाइकोपेन (एक लाल कैरेटोनॉएड पिगमेंट, जो टमाटर एवं अनेक सरस फलों में होता है) प्रचुर मात्रा में पाया जाता है, जो कैंसर के खतरे को कम कर देता है। स्तन कैंसर से रक्षा के लिए टमाटर सबसे उत्तम फल है, यह अपने उच्च एंटी-ऑक्सिडैंट गुणों के कारण असाधारण लाभ प्रदान करने में सक्षम है।

  1. ग्रीन टी

यह शक्तिशाली एंटी-ऑक्सिडैंट्स से भरपूर होती है, जो ब्लड प्रेशर को कम करने में हेल्पफुल है। इसमें एक नींबू निचोड़ें और अतिरिक्त विटामिन प्राप्त करें, जो शरीर के एंटीऑक्सिडैंट्स को अवशोषित करने में सहायता करता है। अनेक अध्ययनों से यह पता चला है कि ग्रीन टी के नियमित सेवन से स्तन कैंसर की वृद्धि की गति को कम किया जा सकता है अथवा रोका जा सकता है।

  1. अनाज

इनमें फोलेट्स, विटामिन बी समाहित है, जो स्तन कैंसर को रोकने में सहायक होता है। गेहूं, ब्राउन राइस, मक्का, जई, राई, जौ, बाजरा एवं ज्वार जैसे समूचे अनाज से बने खाद्य उत्पाद स्वस्थ आहार का महत्वपूर्ण हिस्सा होते हैं, क्योंकि ये विटामिन्स, खनिजों, प्रोटीन, फाइबर एवं सुरक्षात्मक फाइटोकेमिकल्स के उत्तम स्रोत होते हैं।

  1. फलियां व दालें

फलियां और दालें आप की डाइट में वेज प्रोटीन के एक उत्तम स्रोत की पेशकश करती हैं। मसूर व खेसारी जैसी फलियों एवं दालों के सेवन से स्तन कैंसर का जोखिम कम हो जाता है। ये कैल्शियम, आयरन एवं विटामिन बी का भी अच्छा स्त्रोत हैं।

  1. लहसुन

एलियूम नामक कैंसर-प्रतिरोधी तत्व का समृद्ध स्रोत लहसुन एवं इसके संबंधी (प्याज, गन्दना, हरा प्याज व चाइव्स) गांठों की वृद्धि को कम करने एवं स्तन कैंसर के साथ ही साथ कोलोरेक्टल एवं प्रॉस्टेट कैंसर जैसे अन्य प्रकार के कैंसर को रोकने में सहायता करते हैं।

  1. गहरे हरे रंग की पत्तियों वाली सब्जियां

अध्ययन और प्रयोगों से यह पता चला है कि हरी पत्तेदार सब्जियों में ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो कोशिकाओं को डीएनए की क्षति से बचाने में सहायता करते हैं, जिससे कैंसर का जोखिम कम हो जाता है।

इंडस हेल्थ में प्रीवेंटिव हेल्थकेयर एक्सपर्ट कहती हैं कि स्तन कैंसर भारत में तेजी से बढ़ता जा रहा है। खास बात ये कि कम उम्र की महिलाओं में भी इसका खतरा काफी बढ़ गया है। इसकी खास वजह सही लाइफस्टाइल फॉलो नहीं करना है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) ने यह पूर्वानुमान लगाया है कि वर्ष 2020 तक स्तन कैंसर के मामलों में काफी वृद्धि हो जाएगी एवं प्रत्येक 8 में से 1 महिला के जीवन काल में इस रोग के होने की आशंका बन जाएगी। स्तन कैंसर से पीड़ित होने वाली लगभग 85 प्रतिशत महिलाओं में इसकी फैमिली हिस्ट्री नहीं पायी गयी है। यदि जल्द डाइग्नोस कर लिया जाए तो स्तन कैंसर से बचने की संभावना 98 प्रतिशत होती है। स्वस्थ आहार एवं जीवन शैली में सुधार से स्तन कैंसर की आशंका लगभग 40 प्रतिशत कम हो जाती है।