Breaking News
Home / ज़रा हटके / भगत सिंह की फांसी के 87 साल गुजर जाने के बाद लिया गया था यह महत्त्वपूर्ण फैसला

भगत सिंह की फांसी के 87 साल गुजर जाने के बाद लिया गया था यह महत्त्वपूर्ण फैसला

भगत सिंह की फांसी के 87 साल गुजर जाने के बाद यह फैसला लिया गया।भगत सिंह , सुखदेव व राजगुरु को ब्रिटिश पुलिस अधिकारी सांडर्स की हत्या में 1931 में लाहौर में फांसी दी गई थी।

सार्वजनिक की गई फाइलों में केस से जुड़ी खबरों की क्लिपिंग, सांडर्स की पोस्टमार्टम रिपोर्ट, सुखदेव व राजगुरु को फांसी देने का वारंट समेत ब्रिटिश पुलिस द्वारा भगत सिंह के अड्डे पर छाप मारने में बरामद हुए पिस्टल व बुलेट की तस्वीरें आदि कई दस्तावेज हैं।

Loading...

भगत सिंह की सजा के खिलाफ उनके पिता सरदार किशन सिंह की कोर्ट में दाखिल की गई याचिका को पहले ही सार्वजनिक कर दिया गया था। जेल निरीक्षक द्वारा बनाए गए उनके मुत्यु प्रमाण पत्र को भी सार्वजनिक किया गया है और जेल में किताबों और अखबार मुहैया कराने की मांग के लिए भगत सिंह के पत्र को भी पब्लिक किया गया है।

दस्तावेजों में भगत सिंह से जुड़ी एक अनोखी बात भी सामने आई है। वे अपने पत्रों में आपका आभारी या आज्ञाकारी लिखने की जगह आपका आदि, आदि लिखा करते थे।

जन्मदिन विशेष: भगत सिंह की 90 वर्ष पूर्व उपयोग में की गयी पिस्तौल के बारे में ऐसे चला पता

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *