अस्थमा के रोगियों के लिए बहुत लाभदायक होता है यह उपाय

  • धतूरा का उपयोग कई तरीको से किया जाता है। तांत्रिक विधाओं से लेकर कई गंभीर बीमारियों में इसका उपयोग किया जाता है। अस्थमा के रोगियों के लिए धतूरे का प्रयोग विल्कुल एक रामबाण हैं। इसके लिए बराबर मात्रा में धतूरे की पत्तियों व फल को पूरी तरह सुखाकर कूट ले।
  • फिर उस मिश्रण को मिटटी की हण्डिया में पूरी तरह भरकर कपड़े से हण्डिया के मुंह को बंदकर उपर से मिटटी लगाये उपले कोयले या लकड़ी के अंगारे पर इस पात्र को पूरी तरह रखे। जब पतियाँ और फल पूरी तरह जलकर भस्म बन जाये तो उसे उतार कर रख ले।
  • इसके बाद में इसकी आधा ग्राम तक की मात्रा को सुबह शाम शहद के साथ नियमित रूप से अवश्य चटाए। ऐसा करने से अस्थमा व कफ रोगों में बहुत लाभ मिलता है। धतूरे के पत्तो को चिलम में तम्बाकू की तरह से भरकर पिए, इससे अस्थमा के रोगियों को तत्काल राहत मिलेगी।

यह भी पढ़ें:

इस मानसून में जरूर खाएं इम्यूनिटी बढ़ाने वाली ये 3 चीजें

वायरल फीवर को कुछ ही समय में कीजिए छूमंतर, जानिए कैसे?