सेहत के लिए ये स्पैशल जूस बहुत लाभदायक है

बहुत सारे लोगों को जूस बहुत पसंद होता है लेकिन रूटीन डाइट में इसे बहुत ही कम लोग शामिल करते हैं। नाश्ते में अगर आप भी जूस लेना पसंद करते हैं तो प्रतिदिन एक ही तरह का फ्लेवर पीने की बजाए जूस प्लान को फॉलो करें। आपको बता दे की हफ्ते के सात दिन के हिसाब से सात तरह का जूस आपके शरीर में पौष्टिक तत्वों की कमी को पूरा करेंगे। इसके अलावा शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता भी अत्यधिक मजबूत होगी। आइये आपको बताते है हफ्ते के 7 दिनों के लिए सात खास जूस…

टमाटर का जूस
सामान्यतः फलों का जूस तो आप पीते ही रहते हैं लेकिन सब्जियों का जूस उससे भी अधिक लाभकारी है। हफ्ते के पहले दिन की शुरुआत हैल्दी डाइट से करें। टमाटर में पालक और बीटरूट को डालकर जूस बनाएं। इसका सेवन करने से आपके शरीर में खून की कमी नहीं होगी। आप नाश्ते के बाद 1 गिलास दूध भी पी सकते हैं।

स्ट्रॉबरी और खीरे का जूस
आपको बता दे की हफ्ते के दूसरे दिन खीरा और स्ट्रॉबेरी बेस्ट है। खीरा शरीर को पूर्ण्तः हाइड्रेट रखता है और स्ट्रॉबेरी एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर होती है। यह जूस कार्डियोवैस्कुलर जैसी गंभीर बीमारियों से बचाव करता है।

ग्रीन जूस
हफ्ते के तीसरे दिन की शुरुआत ग्रीन जूस से करें। इसके लिए पालक, सैलेरी,पार्सले के अलावा अपनी पसंद की हरी सब्जियां भी इसमें शामिल करें। इससे इम्यून सिस्टम बहुत ही तेजी से बूस्ट होना शुरू हो जाएगा।

ब्लूबेरी और पत्तागोभी का जूस
आप चौथे दिन फलों को जूस में शामिल करें। फाइबर से भरपूर ब्लूबेरी और पत्तागोभी का जूस दिमाग तरोताजा रखने के साथ याद्दाशत बढ़ाने में लाभकारी है। इससे शरीर को बहुत ही भरपूर एनर्जी भी मिलेगी।

पालक और ग्रीन एप्पल जूस
आपको बता दे की विटामिन्स की कमी को पूरा करने के लिए पालक और ग्रीन एप्पल का जूस अत्यधिक लाभकारी है। इससे हड्डियां बहुत मजबूत होंगी। इसे हफ्ते के पांचवे दिन पीएं।

गाजर और संतरे का जूस
हफ्ते के छठे दिन आप गाजर और संतरे का जूस पीएं। इस जूस में विटामिन A, C और बीटा कैरोटीन से भरपूर मात्रा में होता है। आंखों की रोशनी बढ़ाने और प्रतिरोधक क्षमता मजबूत बनाने में यह जूस अत्यधिक फायदेमंद है।

अदरक-चुकंदर का जूस
हफ्ते के सांतवे दिन आप अदरक-चुकंदर का जूस पीएं। एंटी-इंफ्लेमेट्री और एंटी-बैक्टीरियल गुणों से भरपूर यह जूस आपको मानसिक रूप से पूर्ण्तः फिट रखेगा।

यह भी पढ़ें-

ऐसे करें ड्राई आई सिंड्रोम से अपना बचाव