थायरॉयड के मरीजों को अधिक कॉफी पीने से करना चाहिए परहेज, जानिये और किन चीजों को करें अवॉयड

थायरॉयड दो तरह का होता है- हाइपरथायराइड और हाइपोथायराइड। हाइपरथायराइड में ज्यादा मात्रा में थायरॉयड हार्मोन बनने लगता है। वहीं हाइपोथायराइडिज्म में इस हार्मोन का कम उत्पादन होता है। एक सर्वेक्षण के अनुसार भारत में 4.2 करोड़ लोग थायरॉयड की समस्या झेल रहे हैं। इसके कारण मासिक धर्म की समस्या, वजन का बढ़ना, रूखी त्वचा, बाल का झड़ना और कब्ज जैसी समस्याएं होने लगती है। ऐसे में थायरॉयड के मरीजों को अपने खान-पान का खास ध्यान रखने की जरूरत होती है। कई फूड्स हैं जिनका सेवन करने से थायरॉयड की समस्या बढ़ती है। कॉफी उनमें से एक है। जानिये और किन फूड्स को करना चाहिए अवॉयड-

कॉफी: जिन लोगों को थायरॉइड की समस्या है उन्हें कैफीन से बचना चाहिए। इसका अधिक सेवन नहीं करना चाहिए। इससे थायरॉइड के कारण होने वाले समस्या में बढ़ोतरी होती है। ऐसे में चाय और कॉफी से परहेज करें।

जंक फूड: जंक फूड के सेवन से आपका वजन बढ़ जाएगा और वजन के साथ-साथ अन्य स्वास्थ्य सम्बंधित समस्याएं भी होने लगती हैं जैसे थायरॉयड, कोलेस्ट्रॉल का बढ़ना, हृदय सम्बन्धित समस्या, ब्लड प्रेशर बढ़ना, पेट का मोटापा बढ़ना आदि।

ब्रेड, पास्ता और चावल: हाइपोथायरायडिज्म वाले लोग ग्लूटेन के अपने सेवन को कम करें। ग्लूटेन एक प्रोटीन है जो गेहूं, जौ, राई और अन्य अनाजों से बने प्रोसेस्ड फूड्स में पाया जाता है। इससे थायरॉयड कंट्रोल होने के बजाय बढ़ने लगता है, साथ ही इसके कारण होने वाली समस्याएं भी अधिक परेशान करने लगती हैं।

अत्यधिक ग्रीन टी: अत्यधिक ग्रीन टी का सेवन थायरॉयड में नुकसानदायक साबित हो सकता है। ग्रीन टी में मौजूद कैटेकिन एंटी-थाइरॉयड एजेंट की तरह काम कर सकता है, जिससे थायरॉयड में परेशानी हो सकती है। साथ ही थायरॉयड के लक्षणों को भी बढ़ाता है।

प्रोसेस्ड फूड्स: प्रोसेस्ड फूड्स में बहुत अधिक सोडियम होता है और हाइपोथायरायडिज्म वाले लोगों को सोडियम से बचना चाहिए। अंडरएक्टिव थायरॉयड होने से हाई ब्लड प्रेशर का जोखिम बढ़ जाता है और बहुत अधिक सोडियम इस जोखिम को और बढ़ा देता है। इसके अलावा प्रोसेस्ड फूड्स का सेवन करने से वजन भी तेजी से बढ़ने लगता है जो थायरॉयड के मुख्य कारणों में से एक है।

यह भी पढ़े-

Nisha Rawal ने बेटे के बर्थडे के 3 दिन बाद दी ग्रैंड पार्टी, तनाज ईरानी भी बनी मेहमान