टिकटॉक की मूल कंपनी ने निकला अपने 100 से अधिक कर्मचारियों की, आप भी जानिए

बाइटडांस, जो कि टिकटॉक की मूल कंपनी है, ने कथित तौर पर अपने एक गेम डेवलपमेंट स्टूडियो को बंद कर दिया है। एएनआई न्यूज एजेंसी की एक रिपोर्ट के मुताबिक, कंपनी ने शंघाई में 101 स्टूडियो को बंद कर दिया है जिसे बाइटडांस ने तीन साल पहले खरीदा था। उद्धृत स्रोत बताता है कि इसके अलग-अलग कारण हैं कि उसने यह कदम क्यों उठाया है।

कहा जा रहा है कि इसका गेम डेवलपमेंट स्टूडियो ज्यादा मुनाफा नहीं दे रहा था और परफॉर्मेंस भी ठीक नहीं थी। निक्केई एशिया ने बताया, “टिकटॉक के मालिक बाइटडांस अपने निराशाजनक प्रदर्शन के कारण अपने एक मुख्य गेम स्टूडियो को बंद कर रहे हैं रिपोर्ट में दावा किया गया है कि स्टूडियो में करीब 300 कर्मचारी हैं

लेकिन कंपनी ने सभी कर्मचारियों को नहीं निकाला है। उद्धृत स्रोत से पता चलता है कि उनमें से कुछ को बाइटडांस के भीतर अन्य वर्टिकल में स्थानांतरित कर दिया गया है। कहा जा रहा है कि टिकटॉक गेमिंग सेगमेंट में एंट्री करने की योजना बना रहा है, जो एक कारण हो सकता है कि बाइटडांस इस स्टूडियो को बंद कर रहा है।

शॉर्ट-वीडियो बनाने वाले प्लेटफॉर्म को पहले ही वियतनाम क्षेत्र में गेमिंग का परीक्षण करते देखा जा चुका है टिकटॉक बाइटडांस की लोकप्रिय और बेहतरीन सेवाओं में से एक है, जिसने पिछले दो वर्षों में काफी आकर्षण हासिल किया है। ऐप ने उपयोगकर्ताओं को खुद को व्यक्त करने के लिए लघु वीडियो बनाने और साझा करने की अनुमति दी।

लघु वीडियो बनाने और संपादन उपकरण रखने का यह विचार बहुत से लोगों को पसंद आया। इसके बाद इंस्टाग्राम ने रील्स नाम से एक नया सेक्शन भी लॉन्च किया। रीलों को भारत में लगभग दो साल पहले लॉन्च किया गया था जब टिकटॉक को देश में प्रतिबंधित कर दिया गया था

टिकटोक प्रेमियों को नाटकीय लेकिन मनोरंजक लघु वीडियो साझा करने का एक वैकल्पिक विकल्प दिया जा सके। इंस्टाग्राम ने हाल ही में अपने शॉर्ट वीडियो प्लेटफॉर्म रील्स के लिए समय सीमा बढ़ा दी है ताकि यूजर्स को कई तरह के विकल्प मिल सकें।

यह पढ़े: लैपटॉप में टेस्ट क्रिकेट की यादों को संजो रखे हैं विराट कोहली, आज ही के दिन पहनी थी व्हाइट जर्सी