TMC के चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने छोड़ा पद, खुद को बताया विफल नेता

पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस एक बार फिर सत्ता पर काबिज होती नजर आ रही हैं। पार्टी प्रमुख ममता बनर्जी ने नंदीग्राम में जीत दर्ज कर ली है। उनकी पार्टी 200 से ज्यादा सीटों पर आगे चल रही है और जल्द ही सभी सीटों का रुझान सामने ा जायेगा। इस ख़ुशी के बीच टीएमसी के चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने अपना पद त्यागने का फैसला किया हैं। उन्होंने कहा वह अब इस पेशे को छोड़ रहे है और अपने जीवन में कुछ नया कर आगे बढ़ना चाहते हैं।

बता दे बंगाल में चुनाव प्रचार के दौरान भाजपा ने हमेशा 200 सीट पर जीत के दावे किए थे। जबकि तृणमूल के चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने हर बार कहा था कि भाजपा दहाई का आंकड़ा पार कर गई तो मैं अपना काम ही छोड़ दूंगा। किशोर की यह बात सही साबित होती नजर आ रही हैं।

पद छोड़ने का एलान करते हुए प्रशांत किशोर ने कहा है कि वह अब किसी दल के लिए चुनावी रणनीति नहीं बनाएंगे। वह अपने काम को छोड़ रहे हैं। मैं जो करता हूं, अब उसे जारी नहीं रखना चाहता। मैंने काफी कुछ किया है। मेरे लिए एक ब्रेक लेने और जीवन में कुछ और करने का समय है। राजनीति में फिर से वापसी के सवाल पर किशोर ने कहा कि वह एक विफल नेता है इसलिए वह वापस जाएंगे और देखेंगे कि उन्हें क्या करना है।

प्रशांत किशोर ने कहा कि टीएमसी भले ही जीत गई है लेकिन हर पार्टी को चुनाव आयोग के रवैये पर आपत्ति करनी चाहिए। वह पक्षपात करता रहा। ममता बनर्जी की सबसे बड़ी ताकत उनका जनता के साथ जुड़ाव है। जिस तरह वह जनता से जुड़ जाती हैं, बहुत कम नेताओं को उस तरह करते देखा है।

यह भी पढ़े: बंगाल चुनाव: सुवेंदु अधिकारी को परास्त कर ममता बनर्जी ने हासिल की प्रचंड जीत
यह भी पढ़े: अखिलेश यादव बोले- दीदी की जीत भाजपा के ‘दीदी ओ दीदी’ का मुंहतोड़ जवाब हैं