Breaking News
Home / रेसिपी / एक बार खाएंगे तो बार-बार बनाएंगे बिच्छू घास का साग

एक बार खाएंगे तो बार-बार बनाएंगे बिच्छू घास का साग

कंडाली का साग उत्तराखंड की मुख्य व्यंजनों में से एक है। कंडाली को बिच्छू घास के नाम से भी जाना जाता है। बिच्छू घास के नाम सुनते ही बहुत सारे लोगों के रोंगटे खड़े हो जाते हैं, क्योंकि यह उत्तराखंड में पहाड़ों की मां का मुख्य हथियार है अपने बच्चों को शिक्षा देने का। बिच्छू घास व कंडाली अगर शरीर के किसी अंग पर जो भी जाए तो उसमें 2 दिन तक झनझनाहट रहती है और पहाड़ी लोगों ने बचपन में एक ना एक बार कंडाली से मार जरूर खाई होती है लेकिन इसी कंडाली का साग बनाकर लोग इसे बड़े चाव से खाते है।

कंडाली कुमाऊं, गढ़वाल और जौनसार में पाया जाता है तथा यहाँ कंडाली का साग आज भी लोग पसंद करते हैंऔर बड़े चाव से खाते खाते हैं। हालांकि बेहतर जिंदगी की खोज में गांव के लोग पलायन कर शहरीकरण की ओर आकर्षित हो रहे हैं इसलिए नई पीढ़ी पहाड़ी व्यंजनो से और उनके स्वाद से वंचित है। परंतु गांव में आज भी लोग इसे खाते हैं। शहरों में थोड़ा मुश्किल होता है लेकिन जब कभी भी लोग गांव जाए तो कंडाली को ज्यादा मात्रा में पैक करके अपने साथ ला सकते हैं।

Loading...

कंडाली का साग वैसे तो आप घरेलू अंदाज में भी बना सकते हैं, लेकिन अगर आपको कंडाली का साग बनाने की विधि मालूम नहीं है तो हम आपको कंडाली का साथ बनाने की विधि इस आर्टिकल में बताने जा रहे हैं।

रेसिपी

  • सामग्री

जख्या आधा चम्मच (तड़के के लिए).

लहसुन 5 कली (कटी हुई).

हींग चुटकी भर

लाल मिर्च 2 (साबुत)

हरी 2 (मिर्च कटी हुई)

मक्खन/ घी

सरसों का तेल 2 बड़े चम्मच

नमक (स्वादानुसार)

आलण (बेसन और आटे का घोल)

विधि

अब उबली हुई कंडाली को सिलवटें पर पीस लें और थाली में अलग निकालकर पानी में घोल कर रख लें अब इस घोल में आलण को अच्छी तरह से मिलाएं अब तड़के के लिए कढ़ाई में तेल डालकर फिर उसमें साबुत लाल मिर्च भुने और अलग निकाल कर रख दें। अब तेल में जख्या, लहसुन, हरी मिर्च और हींग डालें हल्का भुनकर फटाफट कंडाली का घोल भी डाल दें फिर करछी से घुमाते रहे ताकि तेल में ना जम जाए कंडाली में पानी और नमक अपने स्वाद अनुसार डालिए तथा किसी और मसालों का उपयोग ना करें। परोसते समय मक्खन या घी ऊपर से डाले और भूनी लाल मिर्च के साथ सर्व करें। वैसे तो कंडाली का स्वाद ज्यादातर रोटी के साथ खाया जाता है परंतु इसे चावल के साथ भी खाया जा सकता है।

यह भी पढ़ें:

स्वादिष्ट कढ़ाई मशरूम बनाने की विधि

घर पर रसमलाई तैयार की सबसे आसान विधि

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *