नेपाल की सत्ताधारी पार्टी चीन की कम्युनिस्ट पार्टी से ले रही शासन करने की ट्रेनिंग, खड़े हुए सवाल

नेपाल अब चीन के इशारों पर नाचता दिखाई दे रहा है। पहले तो भारत के खिलाफ षडयंत्र के तहत नेपाल की केपी शर्मा ओली सरकार ने संसद में विवादित नक्शे को पारित किया। वही अब उनकी पार्टी चीन की कम्युनिस्ट पार्टी से राजनीति करने का प्रशिक्षण प्राप्त कर रही है। दरअसल, चीन की सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी ने नेपाल की कम्युनिस्ट पार्टी के नेताओं को वर्चुअल वर्कशॉप के माध्यम से बताया है कि उन्हें किस तरह पार्टी और सरकार चलानी चाहिए।

नेपाल के प्रमुख अखबार काठमांडू पोस्ट के अनुसार इस बैठक का आयोजन नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी (एनसीपी) के स्कूल डिपार्टमेंट की ओर से किया गया था। इस बैठक में उपप्रधानमंत्री ईश्वर पोखरियाल और पुष्प कमल दहल प्रचंड जैसे नेता मौजूद रहे। हालांकि, खुद प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली इस बैठक में उपस्तिथ नहीं थे। वही पार्टी के विदेश मामलों के विभाग ने इस तरह की बैठक के बारे में जानकारी होने से इंकार किया और इसे अनुचित करार दिया।

नेपाली कांग्रेस के नेता और पूर्व राज्य मंत्री उदय शमशेर राणा ने कहा कि नेपाल सरकार, चीन की तरह नेपाल में शाशन करना चाहती है। उन्होंने कहा कि पार्टी और सरकार की पॉलिसी को साथ मिला देना अभूतपूर्व और खतरनाक है। नेपाल में विपक्षी दलों ने चाइनीज स्टाइल में सरकार चलाने के प्रयासों को लोकतंत्र के लिए अनुचित बताया। उन्होंने कहा चाइनीज कम्युनिस्ट पार्टी की ओर से नेपाल में चीन की तरह सरकार चलाने का प्रयास संविधान के खिलाफ है।

यह भी पढ़े: भारत की घेराबंदी के लिए चीन ने चला नया पैंतरा, नेपाल के बाद अब बांग्लादेश पर दिखाई मेहरबानी
यह भी पढ़े: युवराज सिंह ने अपने रिटायरमेंट को लेकर किया बड़ा खुलासा, कहा-अब मैं मानसिक रूप से खुश