तुलसी के पत्ते कफ-कोल्ड से राहत दिलाएंगे, जानिए टिप्स

वैसे तो तुलसी का पौधा बहुत गुणकारी होता है। इसमें वो सारी चीज मिल जाएंगी, जिससे आपकी सेहत ठीक रहेगी। चलिए आज हम आपको ऐसे ही कुछ आसान तरीके बताने जा रहे हैं। जिन्हे आजमकार कर आप भी निरोगी रह सकते है। तुलसी का पौधा ऐसा पौधा है जो हमें ऑक्सीजन देता है। इसलिए चारों तरफ तुलसी के पौधों को बढ़ाना चाहिए तथा रोगों से बचने का प्रयास करना चाहिए।
गले के लिए लाभदायक : अगर आपका गला ठंडा खाने से या ठंडा पेय पीने से खराब हो गया है। तो आप तुलसी के 2-4 पत्तियों के साथ काली मिर्च तथा मिश्री लेकर मुंह में रखकर चूसते रहें। इससे गले की समस्या में लाभ मिलेगा तथा आवाज भी सही रहेगी।

कान के लिए फायदेमंद : अगर आपके कान में दर्द हो या पस पड़ गई हो तो भी तुलसी का यूज कर सकते है। इसके लिए तुलसी का रस निकालकर 4-4 बूंदें कान में डालना चाहिए। इससे कान में दर्द या कान की किसी भी परेशानी से आराम मिलेगा। कान की अन्य परेशानी के लिए 50 ग्राम तिल के तेल में 20-25 ग्राम तुलसी की पत्तियों को धीमी आंच पर पकाना चाहिए। जब यह पक जाएं तो उसे छानकर रख लीजिए। तेल ठंडा होने पर कान में डालिए।  इससे कान की हर परेशानी ठीक हो जाएगी।

होगा बुखार ठीक : चाहे मलेरिया हो या अन्य बुखार। बुखार में आप बेशक अन्य दवाएं भी ले रहे हों, लेकिन आप तुलसी को उबालकर तुलसी के काढ़े में थोड़ी मिश्री मिलाकर के उस पानी को पीते रहना चाहिए। इससे तुरंत बुखार में आराम मिलेगा। इससे बुखार उतरने लगता है और बुखार के बाद आने वाली कमजोरी भी नहीं होती है। बुखार में कमजोरी हो तो तुलसी की पत्तियों का पानी में उबालकर थोड़ी मिश्री मिलाकर या शहद मिलाकर आप लीजिए।  इससे आपको एकदम एनर्जी मिलेगी। अगर आपको डायबिटीज हैं तो आप पानी में मिश्री ना मिलाएं।

यह भी पढ़ें –

सेहत के लिए ये मुरब्बे गुणकारी हैं