Breaking News
Home / छत्तीसगढ़ / नजरिया: मतदाता का मजाक उड़ाते टीवी चैनलों के सर्वे

नजरिया: मतदाता का मजाक उड़ाते टीवी चैनलों के सर्वे

नई दिल्ली: पांच राज्यों में चुनाव के बाद जैसे ही शाम को टीवी के सामने जाते है तो चीखते हुए आपको बताया जाता है सबसे तेज रुझान और ये कहा जाता है की किसकी सरकार बन रही है| मतदान खत्म हुए एक घंटे भी नहीं हुए होते है और टीवी चैनल वाले तय कर देते है की सरकार किसकी बन रही है| ये बहुत रोचक है और साथ में शर्मनाक भी क्योकि ये एक मतदाता का अपमान है, ये अपमान है उस पहले वोटर का जिसमे इस उम्मीद से वोट दिया है की जब नतीजे आयेगे तो उसका वोट जीतेगा|

Loading...

कितनो ने जमीनी सर्वे किया– आप खुद सोच सकते है की कितने न्यूज़ चैनल्स और अख़बार है जिन्होंने जमीनी सर्वे किया| क्या आपने किसी ने पुछा की आपने किसे वोट दिया या फिर आपके आस-पास या मोहल्ले में कोई सर्वे करने आया हो| नहीं ना, तो फिर ये आकडे कहा से आये की इस सीट में सबसे अधिक वोटिंग इस पार्टी को को हुई| मतदान के तुरंत बाद हर एक न्यूज़ चैनल और अख़बार ने अपनी सरकार बना ली| इनके द्वारा जारी किये गए नतीजो में दो ही बातें सामने आती है| एक तो ये की इन्हें दिव्या ज्ञान है और ये भविष्य देखना या फिर इन्सान का चेहरा पढना जानते है और दूसरा की ये झूठ बोल रहे है| अब तय आपको करना है की इन दोनों में से सही कौन सा होगा| हालाँकि ये मानते है की कुछ सर्वे कई बार सही हो जाते है लेकिन अच्छा तब होगा जब सर्वे के साथ साथ उसक आधार भी बताया जाय| ये बताया की कहाँ, कैसे और कब ये आकडे लाए गए और किस आकडे के आधार पर ऐसा कहा जा रहा है| मतदाता जब वोट करके आता है तो उसे उम्मीद होती है की उसकी पार्टी का उम्मीदवार जीतेगा, भले ही उसकी स्थिति कुछ भी हो लेकिन उस मतदाता को खुद के वोट पर शक तब होने लग जाता है जब कुछ स्वघोषित चैनल्स अपना एजेंडा बताने लगते है|

बात साफ़ है की आपने वोट किया है तो नतीजो का इन्तजार करिये| वोटिंग पर भरोसा रखिये क्योकि जो लोग ये बता रहे है उनमे से बहुत सारे लोगो ने खुद वोट नहीं डाला है|

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *