अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने दिया संकेत, चीन के साथ संघर्ष में भारत का देगा साथ

भारत-चीन के साथ सीमा विवाद में अमेरिका ने भारत का साथ देने के संकेत दिए है। अमेरिकी राष्ट्रपति भवन व्हाइट हाउस के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि कही भी विवाद की स्तिथि में हम मजबूती से खड़े रहेंगे। इसी के तहत अमेरिका ने दक्षिणी चीन सागर में अपने दो विमान वाहक पोत तैनात किये है।

व्हाइट हाउस के चीफ ऑफ स्टाफ मार्क मेडोस ने कहा कि हम सर्वशक्तिशाली सेना है। हम दूर खड़े होकर हालात को चीन या किसी अन्य के हाथ में नहीं जाने दे सकते। चाहे वो जिस भी क्षेत्र में हो। इसलिए हमारा संकेत साफ है कि हमारी सेना सबसे ताकतवर है और रहेगी। हम मजबूती से हर क्षेत्र में खड़े है।

मेडोस ने कहा कि अमेरिका ने दक्षिण चीन सागर में अपने दो विमान वाहक पोत भेजे है। जिसका उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि दुनिया यह जाने कि हमारे पास अब भी दुनिया का उत्कृष्ट बल है। गौरतलब है कि दक्षिण चीन सागर और पूर्वी चीन सागर में क्षेत्रीय विवादों में चीन लिप्त रहा है। वह पूरे दक्षिण चीन सागर में अपना दावा ठोकता आया है। इसी वजह से वह वियतनाम, फिलीपींस, मलेशिया, ब्रुनेई और ताइवान के भी क्षेत्रों को लेकर वह अधिकार जमाता है।

यह भी पढ़े: जल्द शुरू होगी ‘द कपिल शर्मा शो’ की शूटिंग, बदला-बदला नजर आएगा शो का प्रारूप
यह भी पढ़े: दक्षिण चीन सागर में अमेरिकी नौसेना के युद्ध अभ्यास से तिलमिलाया चीन, दिया यह जवाब