उत्तर प्रदेश: मंत्रिमंडल विस्तार में शामिल हुए 7 नेता

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले 26 सितंबर को योगी आदित्यनाथ सरकार का मंत्रिमंडल विस्तार हुआ. इसके तहत 7 नेताओं ने मंत्री के तौर पर शपथ ली है. माना जा रहा है कि इस मंत्रिमंडल विस्तार के जरिए सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने कई सामाजिक समीकरण साधने की कोशिश की है.

जितिन प्रसाद: कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए जितिन प्रसाद ने योगी सरकार में मंत्री पद की शपथ ली है. वह ब्राह्मण समाज से आते हैं. जितिन प्रसाद के पिता जितेन्द्र प्रसाद (बाबा साहिब) भारत के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी , पी.वी.नरसिम्हा राव के राजनीतिक सलाहकार, उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के उपाध्यक्ष रह चुके हैं. जितिन प्रसाद ने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा दून पब्लिक स्कूल (देहरादून, उत्तराखंड) और स्नातक में दिल्ली विश्विवद्यालय से बी.कॉम और अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन संस्थान (दिल्ली) से एमबीए किया है.

दिनेश खटीक: मेरठ की हस्तिनापुर विधानसभा सीट से बीजेपी विधायक 47 वर्षीय दिनेश खटीक को भी योगी सरकार में मंत्री बनाया गया है. 2017 के विधानसभा चुनाव में दिनेश पहली बार बीजेपी के टिकट से चुनाव लड़े थे और उन्हें जीत मिली थी. उन्होंने बीएसपी प्रत्याशी योगेश वर्मा को हराया था. वह दलित समुदाय से आते हैं.

छत्रपाल गंगवार: बरेली के बहेड़ी विधानसभा क्षेत्र से बीजेपी विधायक छत्रपाल गंगवार को भी योगी मंत्रिमंडल में मंत्री बनाया गया है. कुर्मी समुदाय से आने वाले छत्रपाल गंगवार बहेड़ी विधानसभा से दूसरी बार विधायक बने हैं. वह साल 2007 के विधानसभा चुनाव में बहेड़ी सीट से चुनाव जीतकर पहली बार विधानसभा पहुंचे थे.

डॉ. संगीता बलवंत बिंद: बिंद समुदाय से आने वाली डॉ. संगीता बलवंत बिंद गाजीपुर की सदर सीट से बीजेपी विधायक हैं. उन्हें भी योगी मंत्रिमंडल में मंत्री बनाया गया है. वह बीजेपी के दिग्गज नेता मनोज सिन्हा की करीबी मानी जाती हैं. बताया जाता है कि मनोज सिन्हा के प्रयासों से उन्हें 2017 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने टिकट दिया था. साल 2014 में उन्होंने बीजेपी ज्वॉइन की थी. बता दें कि वह जमानियां क्षेत्र से निर्दल जिला पंचायत सदस्य रह चुकी हैं.

पलटू राम: 2017 के विधानसभा चुनाव में पहली बार बीजेपी के टिकट से पलटू राम विधायक बने. उन्हें भी योगी मंत्रिमंडल में मंत्री बनाया गया है. मूल रूप से गोंडा जिले के परेड सरकार गांव के रहने वाले पलटू राम अनुसूचित जाति से संबंध रखते हैं. उन्होंने पोस्टग्रेजुएशन तक शिक्षा हासिल की है. उन्होंने छात्र राजनीति से अपना राजनीतिक सफर शुरू किया है. उनकी पत्नी ज्ञानमती गोंडा जिला पंचायत के अध्यक्ष रह चुकी हैं.

संजय गोंड: मंत्रिमंडल विस्तार में सोनभद्र के ओबरा से विधायक संजय गोंड को भी मंत्री बनाया गया है. संजय पहली बार बीजेपी से विधायक चुने गए हैं. संजीव गोंड अनुसूचित जनजाति से आते हैं. इस बिरादरी के लोग आसपास के जिलों में अच्छी तादाद में हैं.

धर्मवीर प्रजापति: एमएलसी धर्मवीर प्रजापति को भी योगी मंत्रिमंडल में मंत्री बनाया गया है. खंदौली के हाजीपुर खेड़ा निवासी धर्मवीर प्रजापति मूलरूप से हाथरस जिले के बहरदोई के रहने वाले हैं. वह उत्तर प्रदेश विधान परिषद के सदस्य हैं. साथ ही माटी कला बोर्ड के अध्यक्ष भी हैं. प्रजापति बीजेपी के महत्वपूर्ण दायित्व संभाल चुके हैं. वह कुम्हार समुदाय से आते हैं.

यह भी पढ़ें:

थकान भी थायराइड होने का गंभीर लक्षण हैं