Breaking News
Home / खेल / चैलेंज के जवाब में भारतीय गेंदबाज ने उड़ा दिये थे पाक बल्लेबाज के स्टम्प, जानिए इस यादगार मैच की खास बातें

चैलेंज के जवाब में भारतीय गेंदबाज ने उड़ा दिये थे पाक बल्लेबाज के स्टम्प, जानिए इस यादगार मैच की खास बातें

भारतीय क्रिकेट टीम का एक गेंदबाज अपनी लंबी कद काठी के लिए जाना जाता था। हम बात कर रहे हैं टीम इंडिया के तेज गेंदबाज रहे बापू कृष्णराव वेंकटेश प्रसाद की । वेंकटेश का जन्म कर्नाटक के बेंगलोर में 5 अगस्त 1969 को हुआ था। वेंकटेश ने भारतीय टीम की तरफ से टेस्ट और वनडे खेले। उन्होंने 1994 में अपनी शुरुआत की। मुख्य रूप से एक दाएं हाथ के मध्यम तेज गेंदबाज, उस वक्त प्रसाद और जवागल श्रीनाथ की गेंदबाजी जुगलबंदी काफी मशहूर थी।

आज हम आपको वेंकटेश के करियर का ऐसा किस्सा बताते हैं जिसे याद करके भारत के क्रिकेट फैंस आज भी रोमांचित हो जाते हैं। बात 1996 के क्रिकेट विश्व कप के भारत-पाकिस्तान मैच के दौरान की है। उस वक्त एक बेहतरीन पल आया जब पाकिस्तान के आमिर सोहेल ने उनकी गेंद पर चौका मारा, उसके बाद प्रसाद की तरफ इशारा करते हुए सोहेल ने अगले शॉट मारने की दिशा बताते हुए प्रसाद की तरफ बल्ले से इशारा किया।

Loading...

प्रसाद बड़े गौर से यह सब देख रहे थे। प्रसाद ने इसका जवाब अपनी गेंद से दिया। जब प्रसाद ने अगली गेंद फेंकी तो गेंद सोहेल के बल्ले के बीच से होकर सीधे स्टम्प में जा घुसी और दो गिल्लियों ओर स्टम्प को उड़ाते हुए अपना रास्ता पकड़ चुकी थी । इस तरह आउट होने से सोहेल निरुत्तर हो गए और शर्मिंद हो गए। इसके बाद पूरे स्टेडियम में प्रसाद के नाम के नारे लगने लगे और सोहेल चुपचाप नजर झुकाए पेवेलियन लौट गए। प्रसाद इंडियन प्रीमियर लीग में किंग्स इलेवन पंजाब के लिए गेंदबाजी कोच रहे , प्रसाद ने 2007 से 2009 तक भारतीय क्रिकेट टीम के लिए समान भूमिका निभाई थी।

प्रसाद ने 33 टेस्ट में 35 की औसत से 96 विकेट लिए, और 161 वनडे मैचों में 32.30 की औसत से 196 विकेट लिए। 1999 में टेस्ट श्रृंखला में पाकिस्तान के खिलाफ हासिल 33 में से 6 के लिए उनकी सर्वश्रेष्ठ टेस्ट गेंदबाजी का सर्वश्रेष्ठ आंकड़ा माना जाता है। इन आंकड़ों में गेंदबाजी का एक जादू शामिल था जिसमें उन्होंने 0 रन देकर 5 विकेट लिए थे। उल्लेखनीय रूप से, उन्होंने एक बार दिसंबर 1996 में दक्षिण अफ्रीका के डरबन में एक टेस्ट मैच में 10 विकेट लिए थे। यह टेस्ट क्रिकेट में उनका एकमात्र दस विकेट रहा। प्रसाद ने इंग्लैंड में 1996 में, श्रीलंका में, 2001 में, और वेस्ट इंडीज में, 1997 में पांच विकेट लिए थे। 1996/97 सीजऩ में, उन्होंने 15 टेस्ट में 55 और 30 एकदिवसीय मैचों में 48 विकेट लिए थे। इस अवधि के लिए, उन्हें सीईएटी इंटरनेशनल क्रिकेटर ऑफ द ईयर नामित किया गया था। प्रसाद ने अपना अंतिम टेस्ट मैच 2001 में श्रीलंका में खेला था।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *