विस्तारवादी कहने पर तिलमिलाया चीन, बोला- यह आधारहीन और विवादों को गढ़ने जैसा

भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा बिना नाम लिए चीन को विस्तारवादी करार देने के बाद चीन तिलमिला गया है। चीन ने खुद को ‘विस्तारवादी राष्ट्र’ कहे जाने पर आपत्ति दर्ज कराई है। उसने पीएम मोदी की बातों को बेबुनियाद करार देते हुए कहा की वह बातों को बहुत बढ़ा-चढ़ाकर पेश कर रहे है। बता दे शुक्रवार सुबह अचानक लेह पहुंचे पीएम मोदी ने सैनिकों को संबोधित करते हुए चीन पर निशाना साधा और कहा कि यह विस्तारवाद नहीं विकासवाद का समय है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि बदलते समय में विकासवाद ही प्रासंगिक है और विस्तारवाद का युग समाप्त हो चुका है। मोदी ने विकासवाद को ही भविष्य का आधार बताया और कहा कि जिसके सर पर विस्तारवाद की जिद सवार हो जाती है, उसने हमेशा से ही विश्व शांति के लिए खतरा पैदा किया है। इतिहास गवाह है ऐसी ताकतें मिट गई हैं या मुड़ने को मजबूर हो गई है। मोदी के इस सख्त संदेश के बाद बीजिंग की ओर से चीनी दुतावास के प्रवक्ता का बयान आया है।

चीनी दुतावास के प्रवक्ता ने जी रोंग ने कहा कि चीन ने 14 में से 12 पड़ोसी देशों के साथ सीमा का निर्धारण काफी शांतिपूर्ण तरीके से किया है। उन्होंने कहा कि चीन को विस्तारवादी’ के तौर पर देखना आधारहीन है और पड़ोसी देशों के साथ अपने विवादों को गढ़ने जैसा है।

यह भी पढ़े: जल्द ही कोरोना से जंग जीतेगा भारत, 60 फीसदी के पार पहुंची रिकवरी रेट
यह भी पढ़े: कोरोना को हराकर घर लौटे बॉक्सर डिंको सिंह, लेकिन जारी है कैंसर से जीवन की जंग