Vitamin D की कमी से हो सकती है तबीयत खराब, अच्छी सेहत के लिए इस तरह पाएं विटामिन डी

Vitamin D Deficiency: शरीर के लिए विटामिन डी की कमी कई स्वास्थ्य संबंधी दिक्कतें साथ लेकर आती है. जानिए किन-किन चीजों से यह कमी पूरी की जा सकती है.

Vitamin D Deficiency: विटामिन डी एक तरह का फैट-सोल्यूबल विटामिन है जो शरीर को धूप से मिलता है. सिर्फ डाइट से पूरी तरह विटामिन डी की कमी को पूरा करना मुश्किल है लेकिन कुछ हद तक विटामिन डी खानपान से प्राप्त होता है. शरीर में विटामिन डी की कमी का मुख्य कारण बाहर ना निकलना और घर में ही बंद रहना हो सकता है. साथ ही, मोटापा भी इसकी कमी की वजह बनता है. आइए जानें, शरीर के लिए विटामिन डी की जरूरत और यह किन खाने की चीजों (Vitamin D Diet) में पाया जाता है.

सेहत के लिए विटामिन डी की जरूरत

विटामिन डी की कमी से शरीर पर तरह-तरह के लक्षण (Vitamin D Symptoms) नजर आ सकते हैं. कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता यानी इम्यूनिटी, बहुत जल्दी-जल्दी कम दिनों के अंतराल में बीमार पड़ना, हड्डियों और कमर में दर्द होना, चोट का समय से ना भरना, बालों का झड़ना, मसल्स में दर्द होना और अवसाद की भावना पैदा होना भी विटामिन डी की कमी से हो सकता है.

विटामिन डी के लक्षणों को पहचानकर समझा जा सकता है कि शरीर को इस विटामिन की जरूरत है. डॉ. रोमल टिकू, असोसिएट डाइरेक्टर, इंटरनल मैडिसिन, मैक्स हेल्थकेयर, के अनुसार, “विटामिन डी हमारे शरीर के इम्यून सिस्टम को बेहतर बनाता है और हड्डियों और दांतों की देखभाल के साथ-साथ शरीर को और भी कई बीमारियों से दूर रखता है. यह श्वसन तंत्र, दिल की बीमरियों और डायबिटीज के खतरे को भी कम करता है.”

कैसे मिल सकता है विटामिन डी

रोजाना धूप में कम से कम 15 मिनट रहने पर शरीर को पर्याप्त मात्रा में विटामिन डी प्राप्त होता है. इसके अलावा टूना मछली, साल्मन, अंडे का पीला भाग, शिताके मशरूम, दही, कॉटेज चीज और दूध भी विटामिन डी के अच्छे स्त्रोत (Vitamin D Sources) हैं.

डॉ टिकू कहते हैं कि भारत में बहुत से लोग हैं शाकाहारी हैं जिस चलते उनके लिए खानपान में विटामिन डी शामिल करना मुश्किल हो सकता है. धूप (Sunlight) में 15 मिनट तक सुबह 10 बजे से दोपहर 1 बजे की बीच अपने हाथ-पैरों को फैलाकर बैठने से अच्छी मात्रा में विटामिन डी मिलता है. लेकिन, लोग अक्सर घर के अंदर ही ज्यादा समय बिताते हैं जिस चलते धूप खाना मुश्किल हो जाता है. इस चलते विटामिन डी के सस्प्लीमेंट्स भी लिए जा सकते हैं लेकिन उसके लिए डाक्टरी सलाह आवश्यक है. वही आपको बता पाएंगे कि कब और कितनी मात्रा में विटामिन डी स्प्लीमेंट लेना बेहतर है. इस बात का ध्यान रखें कि बहुत ज्यादा विटामिन डी शरीर के लिए टोक्सिक भी हो सकता है.

घटाना चाहते हैं शरीर का वजन तो आज से ही शुर कर दीजिए ये 5 एक्सरसाइज करना, Weight Loss हो जाएगा बूस्ट