Breaking News
Home / देश / मतदाता जागरुकता अभियान के माध्यम से किए जाएं बेहतर प्रयास

मतदाता जागरुकता अभियान के माध्यम से किए जाएं बेहतर प्रयास

जयपुर। भारत निर्वाचन आयोग के वरिष्ठ उप चुनाव आयुक्त श्री उमेश सिन्हा ने कहा कि लोकसभा आम चुनाव-2019 में स्वीप (सिस्टेमैटिक वोटर्स एजूकेशन एंड इलक्टोरल पार्टिसिपेशन प्रोग्राम) गतिविधियों को और अधिक व्यापक बनाते हुए विधानसभा क्षेत्रवार मतदान केंद्र तक स्वीप कार्यक्रम चलाए जाएं ताकि आखिरी छोर तक बैठा मतदाता मतदान का महत्व समझ सके। उन्होंने कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव को महोत्सव मानते हुए अधिकाधिक मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर सके इसके लिए मतदाता जागरुकता अभियान के माध्यम से बेहतर प्रयास किए जाएं।

Loading...

श्री सिन्हा बुधवार को लोकसभा आम चुनाव की तैयारियों के संबंध में चुनाव विभाग के सभी अधिकारियों से चर्चा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि राज्य में स्वीप गतिवधियों का ही परिणाम रहा कि 2009 में लोकसभा चुनाव में जहां मतदान प्रतिशत 48.46 प्रतिशत था वहीं 2014 के लोकसभा चुनाव में 63 प्रतिशत से ज्यादा रहा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में स्वीप गतिविधियाें को और अधिक प्रभावी तरीके से प्रसारित करें ताकि वोटर टर्न आउट में इजाफा हो सके। 

उन्होंने कहा कि प्रदेश में जिन लोकसभा क्षेत्रों में पिछले चुनावों में मतदान का प्रतिशत कम रहा है वहां खास तौर पर प्लानिंग कर मॉनिटरिंग की जाए। उन्होंने कहा कि मतदाता सूचियों में ज्यादा से ज्यादा नव मतदाताओं का पंजीकरण हो इसके लिए भी विशेष अभियान चलाए जाएं। ईवीएम अवेयरनेस सेंटर पर ज्यादा से ज्यादा विशिष्ट वर्ग के मतदाताओं जैसे महिलाओं, युवाओं आदि को आमंत्रित कर ईवीएम-वीवीपैट मशीनों के लिए जागरूक किया जाए। उन्होंने कहा कि वोटर अवेयरनेस फोरम सरकारी और कॉरपोरेट गु्रप्स तक अपनी बात पहुंचाने का बेहतरीन माध्यम है अतः उसे और अधिक प्रभावी तरीके से लागू किया जाए। उन्होंने आगामी चुनाव में दिव्यांगजनों और वरिष्ठ नागरिकों को मतदान केंद्र सहयोग और सुविधा देने पर भी जोर दिया। इस दौरान उन्होंने स्वीप के ब्रांड एंबेसेडर, मीडिया प्लान, 1950 वोटर हैल्प लाइन, दिव्यांगजनों को दी जाने वाली सुविधा, मतदाता सूची का अंतिम प्रकाशन संबंधी अनेक विषयों पर विस्तार से चर्चा की।  

कानून व्यवस्था की समीक्षा भी कीवरिष्ठ उप चुनाव आयुक्त ने इस दौरान प्रदेश में कानून एवं व्यवस्था से जुडे़ अधिकारियों से भी कानूनन व्यवस्थाओं का जायजा लिया। विशिष्ट पुलिस महानिदेशक (कानून एवं व्यवस्था) श्री एमएल लाठर ने पीपीटी प्रस्तुतिकरण के माध्यम से सभी तैयारियों से उप चुनाव आयुक्त को अवगत करवाया। इस दौरान पुलिस उप महानिरीक्षक (कानून एवं व्यवस्था) और पुलिस उप महानिरीक्षक (व्यय निगरानी) श्री विशाल बंसल ने चुनाव के दौरान पुलिस बल की व्यवस्था और और वर्तमान स्थिति की भी जानकारी दी। 

मुख्य निर्वाचन अधिकारी श्री आनंद कुमार ने बताया कि विधानसभा चुनावी प्रक्रिया समाप्ति के साथ ही विभाग ने लोकसभा चुनाव-2019 की तैयारी शुरू कर दी थी। प्रदेश में ईवीएम-वीवीपैट मशीनों की एफएलसी (प्रथम स्तरीय जांच) और मतदान कार्मिकों के प्रशिक्षण सहित कई अन्य तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। संभागीय आयुक्त, जिला जिला निर्वाचन अधिकारी और चुनाव से जुड़े अधिकारियों से वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिए चुनावी तैयारियों की लगातार मॉनीटरिंग की जा रही है।

उन्होंने कहा कि मतदान तारीख की घोषणा के बाद अन्य गतिविधियों को भी सुचारू रूप से संपादित किया जाएगा। उन्होंने बताया कि राजस्थान में शांतिपूर्ण चुनाव की समृद्ध परंपरा रही है। आगामी लोकसभा चुनाव में भी इस परंपरा का बखूबी निर्वहन किया जाएगा।  

इस अवसर पर अतिरिक्त मुख्य निर्वाचन अधिकारी डॉ. रेखा गुप्ता, अतिरिक्त मुख्य निर्वाचन अधिकारी डॉ.जोगाराम सहित निर्वाचन विभाग के अधिकारीगण उपस्थित रहे।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *