डायबिटीज के मरीज क्या कर सकते हैं मीठा का सेवन? जानिये कितना और कैसे खाने से ब्लड शुगर पर नहीं पड़ेगा असर

डायबिटीज के मरीजों को दवाइयों के साथ-साथ हेल्दी लाइफस्टाइल फॉलो करना भी जरूरी होता है। इस बीमारी को जड़ से खत्म करना आसान नहीं है। लेकिन इसे नियंत्रण में रखकर लोग नॉर्मल जिंदगी जी सकते हैं। मरीजों में अनियमित इंसुलिन का स्तर उनके मेटाबॉलिज्म को गलत तरीके से प्रभावित करता है। WHO की एक रिपोर्ट के अनुसार दुनिया भर में हर साल लगभग 1.6 मिलियन लोगों की जान डायबिटीज के कारण जाती है। मधुमेह रोगियों को अपने खानपान के प्रति विशेष तौर पर सतर्क रहने की सलाह दी जाती है। उनके शरीर में ग्लूकोज का स्तर ठीक बना रहे इसलिए अक्सर मरीज मीठा खाने से परहेज करते हैं। पर कई बार अपनी क्रेविंग को रोक पाना मुश्किल हो जाता है, ऐसे में आइए जानते हैं कि डायबिटीज के मरीज कभी-कभार कितना मीठा खा सकते हैं-

मीठा खाने से बढ़ता है ब्लड शुगर? : शरीर में जब ब्लड शुगर की मात्रा अनियंत्रित हो जाती है तब डायबिटीज का खतरा बढ़ जाता है। ऐसे में मरीजों के खानपान को लेकर कई पाबंदियां लगा दी जाती हैं। एक्सपर्ट्स के मुताबिक मधुमेह रोगियों को इस बात का अंदाजा होना चाहिए कि उनके लिए क्या और कितना खाना जरूरी है। उनके अनुसार सीमित मात्रा में मरीज हर चीज का सेवन कर सकते हैं। हालांकि, मरीजों को मीठा खाते वक्त इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि वो कितने कैलोरीज का सेवन कर रहे हैं। मीठे पकवानों में कार्बोहाइड्रेट्स अधिक मात्रा में मौजूद होते हैं जो ब्लड शुगर को बढ़ाने का कार्य करती है। ऐसे में इनका सेवन सीमित मात्रा में करना चाहिए।

डार्क चॉकलेट है बेहतर विकल्प : डार्क चॉकलेट स्वास्थ्य की दृष्टि से बेहद फायदेमंद साबित होता है। अगर डायबिटीज पेशेंट को मीठा खाने की क्रेविंग हो रही हो तो वो सीमित मात्रा में डार्क चॉकलेट खा सकते हैं। इसमें नैचुरल कोकोआ ज्यादा और शुगर की मात्रा कम होती है। साथ ही, एंटी ऑक्सीडेंट्स मौजूद होते हैं और ये ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने में भी कारगर है।

फलों का ले सहारा : मधुमेह रोगी उन सभी फलों का सेवन कर सकते हैं जिनका ग्लाइसेमिक इंडेक्स लो होता है। फल आपकी क्रेविंग को कम तो करता ही है, साथ ही इसमें सोडियम, कोलेस्ट्रॉल और फैट की मात्रा भी बेहद कम होती है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार मरीज कोई भी फल 100 से 200 ग्राम रोज खा सकते हैं, इस बात को ध्यान में रखते हुए कि फल बहुत ज्यादा मीठे ना हों। फलों के अलावा, मरीज दूसरे नैचुरल स्वीटनर्स का इस्तेमाल भी कर सकते हैं। रोगियों के लिए शुगर फ्री भी एक बेहतर ऑप्शन हो सकता है।

यह भी पढ़े-

Diabetes के मरीजों के लिए रामबाण मानी जाती है भिंडी, ये सब्जियां खाना भी फायदेमंद