दिमागी बुखार और उसके लक्षणों को क्या जानते हैं आप

दिमागी बुखार को मेनिनजाइटिस के रूप में भी जाना जाता है। मेनिनजाइटिस मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी की झिल्लियों में आने वाली एक सूजन होती है जिसका समय पर इलाज न हो तो मौत भी हो सकती है। इसे दिमागी बुखार भी कहते हैं। मेनिन्जाइटिस जागरूकता और टीकाकरण के जरिये इसे रोका जा सकता है। तो चलिए जानते हैं इसके बारे में-

मेनिनजाइटिस एक वायरल संक्रमण के कारण होता है। वैसे कई बार यह जीवाणु या फंगल संक्रमण के कारण भी हो सकता है। बैक्टीरियल मैनिंजाइटिस, मेनिन्जाइटिस का सबसे गंभीर रूप है। अगर इस बीमारी में पीड़ित व्यक्ति को तुरंत चिकित्सा न मिले तो व्यक्ति की स्थायी विकलांगता या मृत्यु तक हो सकती है। वहीं, वायरल मैनिंजाइटिस बैक्टीरियल मैनिंजाइटिस की तुलना में कम गंभीर होता है और सामान्य प्रतिरक्षा प्रणाली वाले अधिकांश लोग जो इससे प्रभावित होते हैं वह आसानी से ठीक हो जाते हैं।।

पहचानें लक्षण

मैनिंजाइटिस से होने वाली सूजन कई ऐसे लक्षणों को ट्रिगर कर सकती है जो कई घंटों या कुछ दिनों में विकसित हो सकते हैं। इस प्रकार इसके लक्षणों के आधार पर इसकी पहचान की जा सकती है। जिसमें मुख्य हैं-

अचानक तेज बुखार।
बहुत तेज सिर दर्द।
गर्दन में अकड़न।
उलटी अथवा मितली।
भूख का तेजी से कम होना।
लाइट में दिक्कत प्रतीत होना।
त्वचा लाल चकत्ते।

Loading...