जीवन रक्षक दवा नहीं है रेमडेसिविर

विशेषज्ञों के मुताबिक रेमडेसिविर कोविड मैनेजमेन्ट का एक हिस्सा है, जिसकी उपयोगिता पहले 7 दिन में सबसे अधिक है एवं आवश्यकता होने पर इसे 10 दिन तक उपयोग में लिया जा सकता है। पर यह जीवन रक्षक दवाई नहीं है और मौत की दर को घटा नहीं सकता।

यह एक एंटी वायरल ड्रग है और संक्रमण के शुरुआती दिनों में कारगर साबित होता है। संक्रमण अधिक फैलने पर लंग्स खराब होने की स्थिति में इसका इस्तेमाल किया जा सकता है। कोरोना (Corona) के हर मरीज को इस इंजेक्शन की आवश्यकता नहीं लगती है।

सामान्य लक्षणों वाले मरीजों को रेमडेसिविर इंजेक्शन नहीं लगाना होता है वे घर पर ही आइसोलेशन और सही देखरेख से ठीक हो सकते हैं, लेकिन वे मरीज जिनमें गंभीर लक्षणों के साथ-साथ ऑक्सीजन लेवल की कमी पाई जाती है उन्हें यह इंजेक्शन देना जरूरी होता है।

यह भी पढ़ें:

नकली और असली रेमडेसिविर में पहचान आसानी से कर सकते हैं, जानिए कैसे?