सरकार जब व्यापार करने लगती है तो बहुत नुकसान होते हैं: नरेंद्र मोदी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि सरकार जब व्यापार करने लगती है तो बहुत नुकसान होते हैं। निर्णय लेने में सरकार के सामने बंधन होते हैं। सरकार में वाणिज्यिक निर्णय लेने का अभाव रहता है। सभी को आरोप और कोर्ट का डर रहता है। इस कारण सोच रहती है कि जो चल रहा है उसे चलने दो ऐसी सोच के साथ व्यापार नहीं हो सकता।

पीएम मोदी ने कहा – हमने भारत को उद्योग हब बनाने के लिए सुधार किए हैं। आज भारत में लॉजिस्टिक में आने वाली दिक्कतों को दूर किया जा रहा है। टैक्स प्रणाली को आसान किया जा रहा है। पारदर्शिता को बल दिया जा रहा है। श्रम क़ानून को भी सरल किया जा चुका है। FDI में भारत ने सुधार किए हैं।

सरकार खुद व्यापार चलाएं, उसकी मालिक बनी रहें, आज के युग में न ये आवश्यक है, न ये संभव रहा। सरकार का व्यापार में रहने का कोई काम नहीं है। सरकार का ध्यान लोगों के कल्याण और विकास से जुड़ी परियोजनाओं में ही रहना चाहिए

यह भी पढ़ें:

पेट्रोल-डीजल के दाम कम करने के लिए आरबीआई के गवर्नर ने क्या सुझाव दिया है?