कौन सा पानी है ज्यादा साफ Boiled water या RO Water, जान लीजिए

Water Purifier: पानी के महत्व पर हम सबने स्कूल में खूब निबंध लिखे हैं. लेकिन आज के समय में जिस तरीके से जल प्रदूषण (Water Pollution) बढ़ रहा है. ऐसे में हमारे लिए ये भी जान लेना जरूरी है कि हमें पानी का सेवन कैसे करना चाहिए. पानी की शुद्धता का हमें विशेष ध्यान देना चाहिए. अभी हम मॉर्डन हो रहे हैं, इसलिए पानी वाला ये विषय थोड़ा और मॉर्डन होना चाहिए. आजकल एक बात बहुत सुनने को मिलती है, उबाले हुए पानी और फिल्टर्ड वाटर में सेहत के लिए ज्यादा फायदेमंद कौन सा है? जवाब जानने के लिए ये खबर पढ़ें.

पानी क्यों जरुरी?

अगर आपको स्वस्थ रहना है तो अच्छे भोजन के साथ सही मात्रा में रोज पानी पीना भी उतना ही जरुरी है. बिना खाना खाए हम कई दिनों तक जिन्दा रह सकते हैं, लेकिन बिना पानी के जिन्दा रहने की सोच पाना भी मुश्किल है. अच्छी सेहत के लिए शरीर को हाइड्रेटेड रखना बहुत जरुरी है. पर्याप्त मात्रा में पानी आपको मानसिक और शारीरिक दोनों तरह से लाभ पहुंचाता है. यहां पानी का मतलब साफ पानी से है. पानी को साफ करने के लिए आप पानी को उबाल भी सकते हैं या RO का इस्तेमाल भी कर सकते हैं.

गंदा पानी है बिमारियों का घर

अच्छी सेहत के लिए साफ पानी पीना जरुरी होता है. लेकिन बढ़ते जल प्रदूषण की वजह से साफ पानी मिलना एक चुनौती बन गया है, साथ में साल दर साल प्राकृतिक संसाधनों की संख्या में भी गिरावट आ रही है. गन्दा पानी पीने की वजह से डायरिया, टाइफाइड और हैजा जैसी बिमारियां आपको अपना शिकार बना सकती हैं. जो अफोर्ड कर सकते हैं उनके लिए मार्केट में कई तरह के वाटर फिल्टर मौजूद हैं. जो नहीं कर सकते वो नल के पानी को उबाल कर पी सकते हैं.

फिल्टर्ड वाटर V/S बॉयल वाटर

अगर आपको लगता है कि 5 से 6 मिनट तक का Boiled Water साफ होगा तो आप गलत हैं. नल के पानी को पीने लायक बनाने के लिए कम से कम 20 मिनट तक 60 डिग्री टेम्प्रेचर पर गर्म करना होता है. लेकिन अब सवाल है कि क्या ये पानी पूरी तरह साफ है? पानी को उबालने पर पानी के बैक्टीरिया तो मर जाते हैं लेकिन लेड, क्लोरिन जैसे कई खतरनाक रसायन पानी में रह जाते हैं. Filtered Water को Boiled Water की तुलना में ज्यादा साफ माना जाता है. बैक्टीरिया के साथ लेड और क्लोरिन जैसे खतरनाक रसायनों को RO आसानी से दूर कर उसे पीने के लायक बनाता है.

किचन में रखे मसालों को इन टिप्स से जांचें खराब हैं कि अच्छे, जानें यहां