नींबू पानी को क्यों कहते हैं बेस्ट डिटॉक्ट वाटर? जानिए वेट लॉस से लेकर कई अन्य फायदे

नींबू-पानी एक आम और सबसे ज्यादा प्रचलित पेय पदार्थ है। फिटनेस को लेकर सजग लोग अक्सर इस अपने डाइट में शामिल करते हैं। पाचन क्रिया और वजन संतुलित करने में भी नींबू पानी काफी कारगर है। सुबह खाली पेट नींबू पानी पीना सेहतमंद बताया गया है। आयुर्वेद में नींबू को जहां एंटी आक्सीडेंट और प्रचुर फाइबर प्रोडक्ट बताया गया है वहीं डॉक्टर्स भी इसे वजन कम करने का माध्यम मानते हैं। नींबू में पेक्टिन फाइबर पाया जाता है जो हमारे शरीर को भूख का एहसास नहीं होने देता। यानी भूख मारता हैं। इसीलिए नींबू पानी को सबसे अच्छा डिटॉक्स वाटर कहा जाता है। इसके अलावा नींबू पानी विषैले तत्वों को भी शरीर से बाहर निकालने में मदद करता है।

कैसे करता हैं वजन नियंत्रण- नींबू पानी में काफी कम मात्रा में कैलरीज मौजूद होती हैं। इसके अलावा नींबू पानी के सेवन से लोगों को जल्दी भूख नहीं लगती और पेट काफी देर तक भरा भरा महसूस होता है। हेल्थलाईन में छपी खबर के अनुसार नींबू पानी में लोगों को हाइड्रेटेड रखने की भी शक्ति होती है। वहीं यह मेटाबॉलिज्म बढ़ाने में भी असरदार है।

मिल चुका है वैज्ञानिक प्रमाण- खबर में छपी 2008 की एक शोध के अनुसार खाना खाने से पहले पानी पी लेने से शरीर में 13 प्रतिशत कम कैलोरी बनती हैं। वहीं दूसरे रिसर्च से यह सिद्ध होता है कि शरीर में पानी की मात्रा बढ़ाने से इंसान बिना किसी व्यायाम के भी वजन घटा सकता है। हालांकि ये शोध पानी को लेकर किए गए हैं पर नींबू पानी भी सामान्य पानी की तरह ही होता है।

कैसे बनाएं नींबू पानी- वैसे तो हर इंसान अपने स्वाद के हिसाब से ही कुछ बनाता है पर नींबू पानी बनाना काफी आसान है। आधे नींबू के रस को एक गिलास पानी में मिलाकर पीएं। इसका स्वाद बढ़ाने के लिए आप पुदीने के पत्ते और हल्दी का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

नींबू पानी के हैं और भी कई फायदे- यह बायोफ्लेवोनॉयड, विटामिन सी और फाइटोन्यूट्रियंट्स का बेहतर स्रोत है जो हमारे इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाता है। इसके अलावा नींबू पानी को गुनगुना करके पीने से गले की खराबी में भी आराम मिलता है। वहीं, नींबू पानी में एक चुटकी नमक मिलाकर पीने से मसूड़ों की समस्या भी ठीक होती है।

यह भी पढे –

डायबिटीज कंट्रोल करने में कारगर मानी जाती है मूंगफली, सर्दियों के ये फूड्स भी हैं फायदेमंद