भारत सरकार ने क्यों लिया 59 चीनी एप्स पर बैन का फैसला, सामने आई असल वजह

भारत सरकार द्वारा 59 चीनी एप्स पर प्रतिबंध लगाना चीन के लिए बड़ा आर्थिक झटका माना जा रहा है। लेकिन उच्चस्तरीय सूत्रों ने इसकी कुछ और ही वजह बताई है। सूत्रों का कहना है कि सरकार का यह कदम चीनी कम्युनिस्ट पार्टी (सीसीपी) को एप्स के माध्यम से डाटा चुराकर उसे राजनीतिक और सैन्य उद्देश्यों के लिए प्रयोग करने से रोकने के उद्देश्य से लिया गया है। इससे पहले यही समझा जा रहा था कि चीन के साथ सीमा विवाद की वजह से यह निर्णय हुआ है।

आमलोगों का मानना था कि चीनी एप्स पर प्रतिबंध लगाने का निर्णय सरकार ने वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर चीनी सेना द्वारा की गई कायराना हरकत को लेकर लिया है। लेकिन सूत्रों से मिली जानकारी कुछ अलग ही है। सूत्रों के मुताबिक चीन और उसकी संस्थाओं को देश में नागरिक संरचना और एआई जैसी उभरती हुई तकनीक वाले सेक्टर में रोकने का उद्देश्य भारत सरकार का है। यही वजह है कि 59 चीनी एप्स पर प्रतिबंध लगाया गया है।

सीसीपी की ‘मिलिट्री-सिविलियन फ्यूजन’ रणनीति को विफल करना भी चीनी एप्स पर प्रतिबंध लगाने की वजह हो सकती है। इसके तहत सीसीपी टिकटॉक और यूसी ब्राउजर जैसे एप्स के माध्यम से डाटा का इस्तेमाल राजनीतिक और सैन्य उद्देश्यों के लिए किया जा सकता था। कहा तो यह भी जाता है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की हाल की रैली पंजीकरणों को टिकटॉक बॉट्स द्वारा हाईजैक किया गया था , जो भारत के लिए खतरे की आगजनी हो सकती है।

यह भी पढ़े: कॉफी पीते हुए केएल राहुल की तस्वीर पर विराट ने लिखा ‘कप गंदा है’, फिर मिला यह जवाब
यह भी पढ़े: आलोचकों के निशाने पर ‘रसभरी’, स्वरा भास्कर ने कहा-वेब सीरीज में कोई न्यूड सीन नहीं है