गर्भावस्था में इतना ही सोएं महिलाएँ ,वरना…

आमतौर पर गर्भवती महिलाएं अपने खानपान, जीवनशैली का पूरा ध्यान रखती हैं। ऐसा कोई काम नहीं करती जो उसके बच्चे को नुकसान पहुंचाए। इसी तरह ऐसी कोई एक्टिविटी में हिस्सा नहीं लेती, जो उनके बच्चे के हित में न हो। लेकिन क्या आप जानती हैं कि गर्भावस्था के दौरान कितनी नींद लेना जरूरी है? किस तरह सोना जरूरी है? नहीं, तो इस संबंध में आपको दे रहे हैं बहुत ही जरूरी जानकारी।

-गर्भावस्था में सामान्यतः करवट लेकर सोना और बायीं तरफ करवट लेकर सोना सबसे अच्छा होता है।

-शिशु के बेहतर विकास और आपके शरीर के आराम के लिए बाएं करवट सोना ज्यादा बेहतर है।

-इस अवस्था में सोने से आपके गर्भनाल द्वारा आपके शिशु को सभी पोषक तत्व मिलते रहते हैं और रक्त का प्रवाह भी बना रहता है।

-इस अवस्था में सोने का एक फायदा यह भी है कि इससे आपके शरीर में मौजूद टॉक्सिन्स निकल जाते हैं, जिससे शरीर में होने वाली सूजन या संक्रमण से बचाव रहता है।

-इस दौरान आराम बहुत जरूरी है, आराम में अच्‍छी नींद भी आती है।

-गर्भावस्‍था के दौरान 7-9 घंटें की नींद जरूरी है। लेकिन शरीर का वजन बढ़ने के कारण और कई अन्‍य तरह के हार्मोन के कारण नींद नहीं आती। अच्‍छी नींद न आने के कारण दिनभर भारीपन सा लगता है और महिला चिड़चिड़ी भी हो सकती है। इसलिए कोशिश करें कि पूरी नींद जरूर लें।

‘सौंफ’ है सेहत से भरपूर, जानें इसके अन्य लाभ