वर्ल्ड बैंक ने PAK पर ठोका 580 करोड़ डॉलर जुर्माना, इमरान सरकार ने जोड़े हाथ

पाकिस्तान वैश्विक स्तर पर पूरी तरह से कर्ज में डूब चुका है। वह किसी भी तरह से इस जुर्माने वाली आफत से मुक्ति पाना चाहता है। बता दे कभी वर्ल्ड बैंक, कभी आईएमएफ और कभी चीन से उधार लेकर पाकिस्तान अपना काम चलाता रहा है। इसलिए अब उस पर 580 करोड़ डॉलर ( करीब 42841 करोड़ रुपए) का भारी-भरकम जुर्माना हो चुका है। यही नहीं, यह जुर्माना उसके जीडीपी का करीब 2 फीसदी है। ऐसे में पाक इसे चुकाने की हैसियत नहीं रखता।

पाक की इमरान सरकार ने इंटरनेशल ट्राइब्यूनल की ओर से लगाए गए इस जुर्माने को लेकर हाथ जोड़ लिए है। पाकिस्तान की तरफ से कोरोना महामारी के खिलाफ जंग प्रभावित होने की भी दलील दी गई है। दरअसल, मामला यह है कि पाकिस्तान सरकार ने पहले तो खनिज संपदा के लिए मशहूर बलोचिस्तान प्रांत में रेको दिक जिले में तेथयान कोपर कॉर्प के साथ माइनिंग को लेकर करार किया था। लेकिन बाद में खुद की कंपनी बना इस करार को रद्द कर दिया।

बता दे ‘तेथयान कोपर कॉर्प’ ऑस्ट्रेलियन कंपनी बारिक गोल्ड कॉर्प और चिली के अंतोफागास्तो पीएलसी की 50-50 फीसदी हिस्सेदारी वाली संयुक्त कंपनी है। करार रद्द किये जाने से पहले तेथयान कोपर कॉर्प यहां 220 अरब डॉलर का निवेश कर चुकी थी। दरअसल, 1998 में खनन को लेकर हुए इस करार के बाद तेथयान ने डिटेल स्टडी के बाद 2011 में लीज के लिए आवदेन दिया। लेकिन बलोचिस्तान सरकार ने इसे ठुकराकर करार रद्द कर दिया।

पूरे मामले में तेथयान ने 2012 में वर्ल्ड बैंक आर्बिट्रेशन ट्राइब्यूनल में शिकायत दर्ज कराई। संस्था ने 2017 में इस केस में पाकिस्तान को दोषी पाया था और 2019 में 580 करोड़ डॉलर का जुर्माना ठोक दिया। ऐसे में अब इस जुर्माने से बचने के लिए पाकिस्तान सरकार ने हाथ जोड़ लिए है। संभव है हर बार की तरह उसे इस मुसीबत से बचाने के लिए चीन आगे आये। पाकिस्तान का कहना है कि यदि उससे जुर्माना लिया गया तो कोरोना जंग पर इसका असर होगा।

यह भी पढ़े: चीनी कंपनी Tencent से रिश्ता तोड़ भारत में वापसी करेगा PUBG गेम
यह भी पढ़े: ड्रग्स मामले में कन्नड़ एक्ट्रेस संजना गलरानी गिरफ्तार, पुलिस पूछताछ जारी