वृद्धावस्था में योग याददाश्त कम होने के जोखिम को कर सकता है कम

लंबे समय तक योग करना मस्तिष्क की संरचना में बहुत बड़ा बदलाव ला सकता है और बुढ़ापे में याददाश्त कम होने के जोखिम को भी बहुत कम कर सकता है। लंबे समय से योग का अभ्यास करने वाली बुजुर्ग महिलाओं के मस्तिष्क का आकलन किया, तो उन्होंने ऐसी महिलाओं के मस्तिष्क के बाएं प्रीफ्रंटल कॉर्टेक्स में कॉर्टिकल की अधिक मोटाई पाई, जो ध्यान और स्मृति जैसे संज्ञानात्मक चेतनाओं से जुड़ा होता है।

उम्र बढ़ने के साथ ही मस्तिष्क की संरचना और कार्यक्षमता में बदलाव होता है और इससे अक्सर ध्यान, स्मृति में कमी हो जाती है। इस दौरान मस्तिष्क में एक ऐसा बदलाव होता है, जिसमें सेरेब्रल कॉर्टेक्स पतला हो जाता है।

व्यायाम व योग से जिस तरह मांसपेशियों का विकास होता है, वैसा ही मस्तिष्क के साथ भी हो सकता है।

यह भी पढ़ें-

आप रह जायेंगे हैरान मेयॉनीज़ के इन फायदों बारे में जानकर