योगी आदित्यनाथ ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से की मुलाकात, कई बड़े मुद्दों पर हुई बातचीत

गुरुवार को अपने दिल्ली दौरे पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य की राजनीतिक और कोविड स्तिथि पर चर्चा करने के लिए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की।

सूत्रों के आधार पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की गृह मंत्री शाह से मुलाकात करीब 90 मिनट तक चली इस मुलाक़ात में अगले साल होनेवाले उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव की तैयारियों और हाल ही में हुए कैबिनेट विस्तार जैसे मुद्दों पर बातचीत हुई।

बताया जा रहा है की प्रदेश में हाल ही में हुए पंचायत चुनावों में भाजपा के प्रदर्शन पर भी चर्चा की गई और चुनाव से पहले पार्टी के सदस्यों को ‘जिला पंचायत अध्यक्ष’ के रूप में चुनने पर ध्यान केंद्रित करने का फैसला भी किया गया है। बैठक में जिला पंचायत अध्यक्ष के ज्यादा से ज्यादा पदों पर जीत की रणनीति पर भी चर्चा की गई ताकि इसका नेतृत्व करने वाले भाजपा सदस्य विधानसभा चुनाव से पहले कड़ा संदेश दे सके।

योगी और अमित शाह की चर्चा के दौरान कहा जा रहा है की पूर्व केंद्रीय मंत्री और अपना दल की प्रमुख अनुप्रिया पटेल भी चर्चा में शामिल हुईं जो पहली नरेंद्र मोदी सरकार में राज्य मंत्री थीं लेकिन वे अपने दूसरे कार्यकाल में ग्रेड बनाने में विफल रहीं माना जा रहा है की वे मोदी कैबिनेट में अपने लिए मंत्री पद और उत्तर प्रदेश राज्य में अपने पति आशीष पटेल के लिए एक मंत्री पद की मांग कर रही हैं। सूत्रों के मुताबिक़ पटेल पाँच ज़िलों- जौनपुर, मिर्जापुर, प्रतापगढ़, फ़र्रुखाबाद और बांदा के जिला पंचायत अध्यक्ष के पदों की भी मांग कर रही हैं।

माना जा रहा है, योगी के जाने के बाद शाह ने अनुप्रिया पटेल के साथ अलग से मीटिंग की है। बता दें उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गुरुवार को राजधानी दिल्ली पहुंचे और गृह मंत्री से मुलाक़ात के बाद वह शुक्रवार सुबह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और दोपहर में भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाक़ात करेंगे । सूत्रों के आधार पर योगी की प्रधानमंत्री और पार्टी अध्यक्ष से मुलाक़ात का अहम मुद्दा उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव का होगा।

बताया जा रहा है की बैठक में कोविड की स्तिथि भी अहम चर्चा का विषय रहेगा। साथ ही बता दें योगी आदित्यनाथ की राजधानी यात्रा ने उत्तर प्रदेश कैबिनेट और विधानसभा चुनाव से पहले पार्टी के ढांचे में संभावित बदलावों की अटकलों को हवा दी है।

भारतीय जनता पार्टी के सूत्र के मुताबिक़ मुख्यमंत्री के राजधानी दौरे की बैठकों में संभावित कैबिनेट विस्तार या फेरबदल पर भी चर्चा होने की संभावना है। अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले पार्टी को मजबूत करने के लिए राज्य भाजपा में बदलाव हो सकता है।

बदलाव की चर्चा तब से हो रही है जब भाजपा महासचिव बी.एल. संतोष और प्रदेश प्रभारी राधा मोहन सिंह ने विधानसभा चुनाव को लेकर पार्टी की तैयारियों का जायजा लेने लखनऊ का दौरा किया था।

बता दें, बुधवार को कांग्रेस से भाजपा में शामिल हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद की भूमिका भी योगी की बैठकों पर निर्धारित है। जितिन प्रसाद उत्तर प्रदेश के प्रसिद्ध नेता है जिनकी पहुँच ब्राह्मण समाज में है वह दिवंगत कांग्रेस नेता जितेंद्र प्रसाद के पुत्र हैं।

यह भी पढ़ें:

कांग्रेस पार्टी में मची उथल-पुथल के बीच कपिल सिब्बल का बड़ा बयान