आप भी होना चाहते है कोरोना वैक्सीन परीक्षण में शामिल, तो रखें इन बातों का ध्यान

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) ने कोरोना वैक्सीन परीक्षण के पहले चरण के मानव परीक्षण के लिए एक विज्ञापन जारी किया था। जिसके बाद करीब एक हजार लोग अपनी मर्जी से इसमें शामिल होने के लिए आगे आये। आपकी जानकारी के लिए बता दे भारत में तीन तरह की कोरोना वैक्सीन का निर्माण किया जा रहा है। स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर भी प्रधानमंत्री मोदी ने कहा था कि वैक्सीन को हर भारतीय तक पहुंचाने के लिए खाका तैयार है।

देश में तीन कंपनियां भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) के साथ मिलकर कोरोना की वैक्सीन तैयार कर रही है। जिनमें भारत बायोटेक, Zydus Cadila के ZyCoV-D और Oxford University और AstraZeneca शामिल है। वैक्सीन की सफलता की पुष्टि के लिए मानव परीक्षण बेहद जरुरी है। ऐसे में कई लोग वव्हाट्सएप और फोन के माध्यम से इस परीक्षण में स्वेच्छा से शामिल होने का अनुरोध कर रहे है। इस प्रक्रिया में आप भी भाग ले सकते है।

कोरोना वैक्सीन परीक्षण में भाग लेने के लिए आवेदन करने के लिए उम्र 18 से 55 वर्ष की हो। इसके लिए प्रतिभागी को किसी भी चिकित्सा स्थिति जैसे उच्च रक्तचाप, मधुमेह, आदि से पीड़ित नहीं होना चाहिए। उन्हें बिल्कुल स्वस्थ होना चाहिए। आईसीएमआर के प्रवक्ता डॉ. रजनीकांत श्रीवास्तव बताते है कि परीक्षणों के लिए नामांकन प्रक्रिया को प्रचारित करने के लिए प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया, संस्थागत या अन्य वेबसाइटों के माध्यम से विज्ञापन हो सकते है।

यह भी पढ़े: सर्वाधिक कोरोना जांच मामले में विश्व का तीसरा देश बना भारत, यूपी-बिहार का कमाल
यह भी पढ़े: पोषक तत्व से भरपूर नाशपाती देती है बहुत लाभ