आप जानते हैं सोकर उठने का क्या हैं सही तरीका

यह तो हम सभी जानते हैं कि ठीक तरह से सोना सेहत के लिए बेहद आवश्यक है। लेकिन क्या आप इस बात से वाकिफ हैं कि सोकर उठने का भी अपना एक तरीका होता है और अगर व्यक्ति उस तरह से न उठे तो फिर एक अजीब सी झुंझलाहट और तकलीफ होती है। तो चलिए जानते हैं सोकर उठने के सही तरीके के बारे में-

आयुर्वेद और आधुनिक विज्ञान के अनुसार, हमेशा बिस्‍तर की दायीं तरफ से उठना चाहिए। आयुर्वेद के हिसाब से आपके शरीर की दायीं तरफ सूर्य नाड़ी होती है। इसलिए जब आप अपनी दायीं करवट से उठते हैं तो इससे आपका पाचन तंत्र मजबूत होता है। वहीं अगर विज्ञान के तथ्यों पर गौर करें तो शरीर के आसपास दो चुंबकीय क्षेत्र होते हैं। एक हमारे सिर से पैरों की तरफ जाता है दूसरा पैरों से सिर की तरफ। इसलिए जब आप दायीं करवट सोकर उठते हैं तो अपने शरीर के दूसरे चुंबकीय क्षेत्र को मजबूत करते हैं। इससे आपके शरीर में ऊर्जा का प्रवाह तेज होता है।

कुछ लोगों को बिस्तर छोड़ने पर कमर या गर्दन में दर्द का अहसास होता है। इसका मुख्य कारण उनका गलत तरीके से उठना होता है। इसके लिए कभी भी एकदम से झटके से बिस्‍तर न उठें। इससे कमर में मोच आने की संभावना काफी हद तक बढ़ जाती है। बिस्‍तर से उठने के लिए पहले हाथों का सहारा लें। इससे आपकी गर्दन और कमर पर बेवजह जोर नहीं पड़ेगा। उठ कर बैठने के बाद कुछ देर बिस्‍तर पर बैठकर रिलेक्‍स करें। हड़बड़ाकर नहीं उठें।