नहीं जानते होंगे आप, तांबे के बर्तन में पानी पिने के ये बड़े फायदे

आपने ऐसा कई लोगों से सुना होगा कि तांबे का पानी पीना स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद होता है। इसके पीछे की सच्चाई यह है कि तांबे के बर्तन में पानी रखने को लेकर कई सारे साइंटिफ रीजन भी है। तांबे के बैक्टीरिया-नाशक गुणों में मेडिकल साइंस की ओर से पिछले कुछ वर्षों में कई बार प्रयोग हुए हैं और वैज्ञानिकों ने यह मालूम किया है कि पानी की अपनी याददाश्त भी होती है यह हर उस चीज को याद रखता है जिसको यह ठीक से स्पर्श करता है।

ऐसा माना जाता है कि पानी की भी अपनी एक स्वतंत्र स्मरण-शक्ति होती है। आइए जानते हैं कि आखिर तांबे के बर्तन में पानी रखने से हमें क्या-क्या फायदे मिल सकते हैं।

तांबे के पानी से मिलने वाले फायदे

तांबे के बर्तन में रखा पानी पूरी तरह से विल्कुल शुद्ध माना जाता है। यह सभी प्रकार के बैक्टीरिया को पूरी तरह खत्म कर देता है, जो डायरिया, पीलिया, डिसेंट्री और अन्य प्रकार की गंभीर बीमारियों को पैदा करते हैं।

अगर आप पानी को रात भर या कम-से-कम चार घंटे तक तांबे के बर्तन में रखें तो यह तांबे के कुछ गुण अपने में उसमे समा लेता है।

तांबा यानि कॉपर, सीधे तौर पर आपके शरीर में कॉपर की कमी को पूरा करता है और बीमारी पैदा करने वाले जीवाणुओं से आपकी रक्षा कर आपको पूरी तरह से स्वस्थ बनाए रखने में बहुत सहायक होता है।

तांबे में एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुण मौजूद होने के कारण शरीर में दर्द, ऐंठन और सूजन की समस्या कभी नहीं होती। ऑर्थराइटिस की समस्या से निपटने में भी तांबे का पानी बहुत अधिक फायदेमंद होता है।

इसमें मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट कैंसर से लड़ने की क्षमता में बहुत वृद्धि करते हैं। अमेरिकन कैंसर सोसायटी के अनुसार तांबे कैंसर की शुरुआत को रोकने में भी बहुत मदद करता है और इसमें कैंसर विरोधी तत्व भी मौजूद होते है।

पेट की सभी प्रकार की समस्याओं में तांबे का पानी बहुत अधिक फायदेमंद होता है। प्रतिदिन इसका प्रयोग करने से पेट दर्द, गैस, एसिडिटी और कब्ज जैसी परेशानियों से आसानी से निजात मिल सकती है।

शरीर की आंतरिक सफाई के लिए तांबे का पानी बहुत कारगर होता है। इसके अलावा यह लिवर और किडनी को स्वस्थ रखता है और किसी भी प्रकार के इंफेक्शन से निपटने में तांबे के बर्तन में रखा पानी बहुत लाभप्रद होता है।

तांबा अपने एंटी-बैक्‍टीरियल, एंटीवायरल और एंटी इंफ्लेमेट्री गुणों के लिए भी जाना जाता है। यह शरीर के आंतरिक व बाह्य घावों को जल्‍दी भरने के लिए अत्यधिक फायदेमंद साबित होता है।

तांबे में भरपूर मात्रा में मौजूद मिनरल्स थॉयराइड की समस्या को दूर करने में बहुत सहायक होते हैं। थॉयराइड ग्रंथि‍ के सही क्रियान्वयन के लिए तांबा बेहद उपयोगी है।

तांबे में उपस्थि‍त एंटी-ऑक्सीडेंट तत्व असमय बढ़ती उम्र के निशान को कम कर आपको जवां बनाए रखता है। इसके अलावा यह फ्री रैडिकल में भी ज्यादा लाभदायक है, जो त्वचा को झुर्रियों, बारीक लाइनों और दाग-धब्बों से बचाकर स्वस्थ और जवां बनाए रखता है।

यह भी पढ़ें-

आपको है कौन सी बीमारी, अब पेशाब के रंग से पता चलेगा