तांबे के बर्तन में पानी पीने के ये फायदे शायद नहीं जानते होंगे आप

हर रोज अगर गुड मॉर्निंग तांबे के पात्र में पानी पीकर की जाएं तो फिर उसकी बात ही कुछ ओर होगी। जी हां वैसे भी भारतीय परंपरा के मुताबिक तांबे के पात्र में पानी पीया जाता है। अब इस बात को  मेडिकल रिपोर्टों में सही माना गया है। हमारे पूर्वजों द्वारा अपनाए गए तरीकों को हम छोड़ते जा रहे हैं। लेकिन यह बिल्कुल गलत बात है, अगर हम फिर से वही नुस्खों का अपनाएं तो हमारे शरीर के पास बीमारियां नहीं भटकेगी। और शरीर को कई प्रकार के फायदे मिलेंगे। इसी तरह का एक तरीका है तांबे के बर्तन में रात को पानी भरकर रख दें और फिर इसे सुबह पीना चाहिए।  आपको बता दें कि मेडिकल स्टडीज में साबित हुआ है कि तांबे के बर्तन में रखा पानी हमारी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है। आयुर्वेद भी कहता है कि तांबे के बर्तन में रखा पानी पीने से कई तरह की बीमारियों का खतरा टलता है। चलिए आपको बताते है तांबे के बर्तन में रखे पानी को रोज सुबह पीने के कुछ फायदें…

नहीं होगा थायरॉयड : तांबे में मौजूद कॉपर थायरेक्सिन हार्मोन को कंट्रोल करता है। इससे थायरॉयड का खतरा टलता है।

जोड़ों के दर्द के लिए रामबाण : तांबे के पात्र में रखे पानी में यूरिक एसिड पाया जाता है। यह जोड़ों के दर्द के लिए रामबाण की तरह काम करता है।

नहीं होगी गैस की समस्या : तांबे के बर्तन में रखे पानी को पीने से एसिडिटी और गैस की समस्या से निजात मिलती है और डाइजेशन सुधरता है।

कोलेस्ट्रॉल लेवल होगा कम : इस बर्तन में रखे पानी को पीने से कोलेस्ट्रॉल लेवल कम होता है और हॉर्ट में मजबूती आती है। दिल की बीमारियों को दूर रखने के लिए तांबे के बर्तन में रखे पानी को जरूर पीना चाहिए।

खून की कमी होगी दूर : तांबे के बर्तन में कम से कम 8 घंटे रखे पानी को पीने से एनिमिया तथा खून की कमी दूर होगी। इसमें मौजूद कॉपर आपके शरीर में खून की कमी को दूर करने में कारगर साबित होगी।

कैंसर से लडऩे में सहायक : तांबे के बर्तन में रखे पानी में पर्याप्त मात्रा में एंटी ऑक्सीडेंट्स होता है जो उम्र के असर को कम करने के साथ-साथ कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से लडऩे में सहायक होता है।

वजह होगा कम : हर रोज सुबह तांबे के पात्र में पानी पीने से वजन कम होगा। साथ ही इससे कई प्रकार के फायदे मिलते है।

बालों को झडऩा होगा कम : तांबे के बर्तन में रखे पानी को पीने से बालों का झडऩा भी कम होता है।

एसिडिटी से प्रतिदिन होना पड़ता है दो-चार, तो ऐसे दें उसे मात