आपको है कौन सी बीमारी, अब पेशाब के रंग से पता चलेगा

ज्यादातर लोग यूरिन(पेशाब) पर बहुत ज्यादा ध्यान नहीं देते हैं, लेकिन सच्चाई तो यह है कि आपके हेल्थ का सारा राज पेशाब के रंग में ही पूरी तरह छिपा हुआ होता है।

इसका सीधा मतलब यह है कि जब आपके हेल्थ में बहुत ज्यादा उतार-चढ़ाव आते हैं तो आपके पेशाब का रंग भी बहुत बदलता जाता है। हम आपको बता रहे कि किस तरह आप पेशाब के रंग से अपने स्वास्थ्य का पूरी तरह अंदाजा लगा सकते हैं।

स्पष्ट या हल्का पीला रंग(लाइट यलो)

पेशाब का हल्के पीले रंग का होना हमारे सही स्वास्थ्य को बताता है। इसका मतलब आप एकदम फिट एंड फाइन है। इसके अलावा अगर पेशाब पूरी तरह से साफ हो तो आप अBHUT च्छी तरह से हाइड्रेटेड हैं। मतलब आपका शरीर जरूरत के मुताबिक अच्छा कार्य कर रहा है।

पीला रंग (यलो कलर)

पेशाब का रंग पीला इस बात को पूरी तरह दर्शाता है कि आपका शरीर हाइड्रेटेड नहीं है। इसके अलावा अधिक पसीना आना हाइड्रेशन के लो होने की वजह से ही होता है। इससे इस बात का पता चलता है कि आप अधिक मात्रा में लिक्वेड यानि तरल पदार्थों का पूरी तरह सेवन कर रहे हैं।

डार्क यलो/ब्राउन

अगर आप अत्यधिक दवाओं का इस्तेमाल रोज कर रहे हैं तो आपके पेशाब का रंग गहरे पीले रंग या भूरे रंग में पूरी तरह बदल जाएगा। ऐसा कलर लीवर की समस्या को भी बताता है। वैसे ज्यादातर ऐसा रंग सिर्फ दवाओं के अधिक सेवन से ही होता है।

दूधिया सफेद (मिल्की व्हाइट)

पेशाब का दूधिया सफेद रंग में बदलना इस बात को पूरी तरह दर्शाता है कि आपके यूरिन के रास्ते में बैक्टिरिया की पहुंच बढ़ती जा रही है। इस बात का पता चलने पर आप तुरंत डॉक्टर की सलाह भी अवश्य ले सकते हैं।

यह भी पढ़ें-

जानिए कैसे करोड़ों लोग है अवसाद के शिकार