आपकी नींद और ऑफिस में है चमत्कारिक रिश्तों की डोर

आज के समय में लोग जल्द से जल्द तरक्की पाने के लिए खूब मेहनत से काम करते हैं। काम के बीच वह नींद की भी परवाह नहीं करते।

अगर आप भी ऐसा कर रहे हैं तो न सिर्फ आप अपनी सेहत से खिलवाड़ कर रहे हैं, बल्कि इससे जल्द ही आपके ऑफिस वर्क पर भी असर पड़ेगा। आपको शायद पता न हो लेकिन नींद और आपके ऑफिस वर्क का आपस में एक गहरा नाता है।

💁‍♂️ तो चलिए जानते हैं इसके बारे में-

अगर आप अच्छी नींद लेते हैं तो इससे इम्युनिटी पर भी सकारात्मक असर पड़ता है। आठ घंटे की रेग्यलर नींद लेने से आप अपने ऑफिस के अन्य कलीग्स की तरह खांसते नहीं रहेंगे।

भरपूर नींद लेने और बीमारियां न होने का सीधा नाता है। इसलिए अपने इम्यून सिस्टम पर अहसान करें और बेहतरीन नींद लें।

ऑफिस में लगातार गलतियां हो रही हैं या घर के काम में बाधाएं आ रही हैं तो इसका मतलब है कि आपकी नींद नहीं होने का असर काम पर पड़ रहा है।

विज्ञान कहता है कि जब हम ज्यादा थके हुए होते हैं तब गलतियां भी कुछ ज्यादा ही करते हैं।

रात को अच्छी नींद लेने के बाद हम दिनभर के तनाव ज्यादा बेहतर तरीके से झेल पाते हैं और बेहतर तरह से इनसे निपट भी पाते हैं। चाहे घर में कोई कुछ कह दे या ऑफिस में बॉस की डांट सुनना पड़ जाए, आप इस तरह के छोटे-मोटे तनाव से निपटने के लिए तैयार रहेंगे।

नींद की कमी होने की वजह से हमारा दिमाग कुछ भी नया ट्राय करने के लिए तैयार नहीं रहता है। जब हम पूरे वक्त किसी खतरे के डर के साये में रहते हैं तो अपने कम्फर्ट जोन से बाहर निकलना ही नहीं चाहते।

ऐसे में हम अपने लिए खुद ही नए रास्ते बंद कर लेते हैं और जीवन में आनेवाली अनेक उपलब्धियों और मजेदार अनुभवों से वंचित रह जाते हैं।

जब आप ज्यादा थके होंगे तभी चॉकलेट फज ब्राउनीज, केक्स और कैरेमल क्रेविंग आपको परेशान करेंगी। नींद की कमी हमें अक्सर शुगरी ट्रेट्स लेने के लिए मजबूर करती हैं। जब नींद पूरी नहीं होती तो दिमाग के सेंटर में इस तरह का खाना हमें खुशी देने वाले हॉर्मोन्स रिलीज करने लगता है। तो अगर आप चाहते हैं कि घर में रखे कपकेक्स से आप दूरी बनाए रखें तो अच्छी नींद लेना शुरू कर दें।

जितना कम सोएंगे उतना जल्दी आपका दिमाग इधर उधर भटकेगा और आप किसी भी एक जगह कॉन्सेंट्रेट नहीं कर पाएंगे। छोटी-छोटी चीजें आपका ध्यान खींचेंगी। अच्छी नींद लेंगे तो बेहतर ध्यान लगा सकेंगे और बार-बार आपका दिमाग आपका ध्यान इधर-उधर खींचेगा नहीं।