कमेंटेटर नहीं बल्कि कोच बनना चाहते है युवराज सिंह, पीटरसन से बातचीत में बताई भविष्य की योजना

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व ऑलराउंडर युवराज सिंह ने क्रिकेट कोच बनने की इच्छा जाहिर की है। उन्होंने कहा है कि वह खिलाड़ियों की मानसिकता पर काफी अच्छा काम कर सकते है। उन्हें लिमिटेड ओवर के क्रिकेट में दशकों से महारत हासिल है। सिक्सर किंग युवी ने ये सभी बातें इंस्टाग्राम पर इंग्लैंड के पूर्व कप्तान और धाकड़ बल्लेबाज रहे केविन पीटरसन से बातचीत के दौरान कही। उन्होंने कहा कि वह कमेंट्री से अधिक कोचिंग में ज्यादा दिलचस्पी रखते है।

2007 टी-20 विश्व कप और 2011 वनडे विश्व कप चैंपियन टीम इंडिया के सदस्य युवराज सिंह ने कहा कि वह सीमित ओवरों के बारे में ज्यादा जानता हूं और इसलिए मैं खिलाड़ियों से अपना अनुभव बांट सकता हूं। उन्हें बता सकता हूं कि वो नंबर-4, 5, 6 पर किस मानसिकता के साथ जा सकते हैं।

बता दे युवराज सिंह ने पिछले साल ही अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहा था। कुछ दिनों पहले ही उन्होंने भारतीय टीम के संदर्भ में कहा था कि टीम को एक मनोवैज्ञनिक की जरूरत है। इस दौरान उन्होंने मेंटोर के तौर पर काम शुरू करने और फिर फुल टाइम कोचिंग की इच्छा भी जाहिर की थी।

दरअसल पीटरसन ने युवराज सिंह से कमेंट्री में आने को कहा था। जिसका जवाब देते हुए युवी ने कहा कि उन्हें नहीं पता कि वह कमेंटेटर के तौर पर कैसा करेंगे। लेकिन वह आप लोगों के साथ आएंगे और कमेंट्री करेंगे। लेकिन वह अभी एक साल का ब्रेक लेना चाहते है और कुछ अच्छे टूर्नामेंट्स खेलना चाहते है। बता दे लॉकडाउन के चलते युवराज फिलहाल अपने परिवार के साथ समय व्यतीत कर रहे है। उन्होंने जल्द ही पिता बनने की उम्मीद भी जताई।

यह भी पढ़े: जल्द लांच होगा Moto G8 Power Lite स्मार्टफोन, ये होंगे इसके खास फीचर्स!
यह भी पढ़े: जानिए, सरसों के तेल के 6 बड़े फायदे

Loading...