Zomato का जलवा बरकरार! 5 दिन में 21% से अधिक चढ़े भाव

पिछले कुछ दिनों के दौरान जोमैटो के दो बड़े निवेशकों ने कंपनी में या तो अपनी हिस्सेदारी कम कर दी या फिर उसे पूरा बेच दिया। पहले टाइगर ग्लोबल ने 18.44 करोड़ जोमैटो के शेयर बेच कर अपनी हिस्सेदारी घटाई और उसके बाद उबर ने पूरा अपना हिस्सा बेचकर इस फूड डिलीवरी कंपनी से बाहर निकल गई। लेकिन इस बिकवाली के बावजूद कंपनी के शेयरों का जवला बरकरार है।

उबर के द्वारा शेयर बेचने के अगले ही दिन जोमैटो के शेयरों में तेज उछाल देखने को मिली। गुरुवार (4 अगस्त 2022) को कंपनी के शेयर 5% की तेजी के साथ 58 रुपये प्रति शेयर के लेवल पर पहुंच गए। और अंत में यह मामूली गिरावट के साथ NSE में 56.80 रुपये पर बंद हुआ। पिछले 5 कारोबारी सत्रों की बात करें तो कंपनी के शेयरों में अबतक 21.76% की उछाल देखने को मिली है।

उबर के शेयर को किसने खरीदा?

ऑनलाइन कैब सेवा कंपनी उबर ने जोमैटो के 61.2 करोड़ शेयरों को 3,088 करोड़ रुपये में बेचा है। बीएसई पर उपलब्ध जानकारी के अनुसार, उबर ने जोमैटो में अपनी 7.8 प्रतिशत हिस्सेदारी या 61,21,99,100 शेयर बेचे। इन शेयरों की बिक्री 50.44 रुपये प्रति शेयर के औसत मूल्य पर की गई।

इस सौदे का मूल्य 3,087.93 करोड़ रुपये बैठता है। फिडेलिटी इन्वेस्टमेंट ट्रस्ट फिडेलिटी सीरीज इमर्जिंग मार्केट्स फंड और आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड ने कंपनी के क्रमशः 5,44,38,744 और 4,50,00,000 शेयर खरीदे।

कब से Zomato के शेयरों में तेजी देखने को मिल रही है?

चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही नतीजे आने के बाद से ही इस फूड डिलीवरी करने वाली कंपनी के शेयर में तेजी देखने को मिल रही है। कंपनी को पहली तिमाही के दौरान 186 करोड़ रुपये का नुकसान उठाना पड़ा था। जोकि पिछले वित्त वर्ष की पहली तिमाही में 360.7 करोड़ रुपये की तुलना में आधा है।

साथ ही कंपनी का रेवन्यू भी 14% बढ़कर 1414 करोड़ रुपये का रहा है जोमेटो ने शेयर बाजार ने जुलाई 2021 में डेब्यू किया था। शुरुआती कुछ महीने में कंपनी ने निवेशकों को ताबड़तोड़ रिटर्न दिया। लेकिन नवंबर 2021 के बाद इसमें लगातार गिरावट देखने को मिली। हाल ही में जोमैटो ने Blinkit का अधिग्रहण 4,447 करोड़ रुपये में किया था। लेकिन तब इस डील से निवेशक काफी असहज हो गए थे।

यह पढ़े: मई में आया था इस कंपनी का IPO, अब मुनाफे में 85 प्रतिशत का उछाल